साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

जीवन का शाश्वत सत्य

रोहित शर्मा जीवन का शाश्वत सत्य भोर की बेला हुई, दिनकर की पलके खुली। इंतज़ार ख़त्म हुआ, सौगात लेकर आई नयी सुबह।। धीरे धीरे आँखे खोल रहा,स्वर्ण किरणे [...]

Read more

देश पूँछता कहाँ विभीषण

Laxminarayan Gupta
छाती सह्ती नित पद प्रहार होती सहिष्णुता तार तार हम बन कर गांधी बार [...]

शिक्षक का फर्ज व कर्तव्य

कृष्णकांत गुर्जर
बड़े हर्ष का बिषय है कि आज हमारा देश शिक्षा के क्षेत्र में एक उच्च [...]

खूनी गीत

RAJESH BANCHHOR
************************* जब भी मैंने कलम उठाया ! लिखने को कोई गीत नया !! कलम मेरे रूक [...]

नारी सृष्टि निर्माता के रूप में

पंकज 'प्रखर'
आज के लेख की शुरुआत दुर्गा सप्तशती के इस श्लोक से करता हूँ इसमें [...]

जीना सीख लिया है।

रीतेश माधव
बे-रंग नहीं रहेगी अब ज़िंदगी... मैंने रंग बदलना सीख लिया है कंटीले [...]

ग़ज़ल

DrSarojini Tanhaa
ज़िन्दगी की मुस्कराहट खो गयी। दर्द में जीने की आदत हो गयी।। एक [...]

मुक्तक

MITHILESH RAI
हार कर भी तेरी कहानी की तरह हूँ! हार कर भी तेरी निशानी की तरह [...]

” ——————————————- अब तक बाँच न पाया ” !!

भगवती प्रसाद व्यास
तेरी चाहत को पूजा है , सिर माथे बिठलाया ! आँखियों में क्यों नमी [...]

*” जिओ और जीने दो “*

Mahender Singh
*"जिओ और जीने दो"* आखिर कब तक मातम मनाते रहोगे, गाड़ी चलाते हुए फ़ोन पर [...]

*”समाज निजता में बाधक है”*

Mahender Singh
मैं कह न सका, हिचक मेरे मन में थी, वह सह न सकी, काफ़िर कह आगे बढ़ गई, मन [...]

सरल के दोहे

साहेबलाल 'सरल'
*चिंता छोड़ो अरु करो, अपने सारे काम।* *अगर काम को चाहते, देना तुम [...]

वेदना

डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
'वेदना' कष्ट का पर्याय नहीं अपितु 'शक्ति' का स्रोत है। एक अलौकिक [...]

:::#::: हमने यह सीखा फूलों से :::#:::

Ranjana Mathur
फूल-फूल तुम कितने प्यारे, देख तुम्हें मन होता पुलकित। रंग [...]

::::: रक्षा करो माता रानी :::::

Ranjana Mathur
दुनिया की माया नगरी में, उलझ कर रह गई नश्वर काया। हे माता! मैंने [...]

तुम्हारे लिए

RAJESH BANCHHOR
********************* जन्मदिवस के रूप में यह दिन सुहाना आया है हर दिल पर रंगी [...]

उम्मीदों के पुल

Raj Vig
देर से ही सही आ गया हूं उन राहों मे जहां मिलने लगा है सकून जिन्दगी [...]

==खुशियाँ बांटता चल==

Ranjana Mathur
छोटी सी जिन्दगी है बिता दे हंसने हंसाने में बता क्या मिलेगा [...]

ग़ज़ल /गीतिका

kalipad prasad
ताज़ा’ कानून लाभकारी है घूस खोरों में’ बेकरारी है | देश में आज अंध [...]

तकनीकी के अग्रदूत राजीव गांधी का शिक्षा के प्रति दृष्टिकोण

पंकज 'प्रखर'
हमारे भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी का कहना था [...]

मेरा सदग्रंथ कहे ये बारंबार

Ashutosh Jadaun
ये अश्क होते मोती , ये नयन होता सागर । ये झुल्फे होती बादल , ये सिर [...]

पाक तेरा क्या होगा अंजाम

Vindhya Prakash Mishra
क्या होगा अंजाम पाक तेरा क्या होगा अंजाम कोई तेरी औकात नही है कोई [...]

जीवन क्षणभंगुर

Maneelal Patel
आया है तो , जाएगा जरूर । जीवन तो है यारा, क्षणभंगुर। कौन जाने मौत [...]

ग़ज़ल।पर तुम्हारी आँख सा आइना कोई नही।

रकमिश सुल्तानपुरी
@@@@@@@@ग़ज़ल@@@@@@@@ बाद जाने के तेरे आसरा कोई नही । इश्क़ मे डूबा [...]

गिरगिट

अशोक सोनी
एक गिरगिट अचानक रूप बदलने लगा नये-नये रंग में पल-पल ढलने लगा । उसको [...]

पहले नैन मिलाके नैन -चार उसने किया। रात की नींद गई बेक़रार उसने किया।।

Wasiph Ansary
पहले नैन मिलाके नैन-चार उसने किया।। रात की नींद गई बेक़रार उसने [...]

रावण नहीं मरेगा शायद

हेमा तिवारी भट्ट
💫रावण नहीं मरेगा शायद💫👉 "नाभि में अमृत भरा था, ज्ञानी भी वह बहुत [...]

सुन प्रीतम की बात…संघर्ष

Radhey shyam Pritam
सुन प्रीतम की बात...कुंडलिया छंद *************************** जीवन तो संघर्ष है,हरपग [...]

ये तूने क्या कर डाला

श्रीकृष्ण शुक्ल
आज प्रस्तुत हैं पर्यावरण पर दो मुक्तक वृक्ष काट कर इस धरती [...]

रोज कुआं खोदते रोज पानी पीते दिहाड़ी मजदूर –व्यंगात्मक कथा

drpraveen srivastava
रोज कुआं खोदते रोज पानी पीते दिहाड़ी मजदूर । प्रात : काल जब ग्राम [...]

ओज के राष्ट्रीय कविः रामधारी सिंह दिनकर

लाल लाल
राष्ट्रकविः रामधारी सिंह दिनकर *लाल बिहारी लाल आधुनिक हिंदी [...]