Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

मुझे चाहिए एक दिल

मुझे चाहिए दिल एक ऐसा,जो पर पीड़ा पर पिघल सके।
प्रेम और करुणा भरा दिल, जो सत् पथ पर निकल सके।।
परिवार माने सारी दुनिया को, और सभी से प्यार करे।
जाति पंथ मजहब से पहले, मानवता से प्यार करे।। मुझे चाहिए
मुझे चाहिए एक ऐसा दिल,जो दिल को दिल से मिला सके।
हिंसा द़ेष मिटाए जग से,पाठ प़ेम का पढ़ा सके।।
एक है ईश्वर सभी दिलों का,दिल में अपने दिखा सके।। मुझे…
कौन है हिन्दू, कौन है मुस्लिम, कौन सिक्ख ईसाई हैं।
एक ही मात पिता के बेटे,दिल से माने हम भाई हैं।
भाई भाई सा प़ेम करे ,सारे भेदों को मिटा सके।
नफ़रत की तोड़े दीवारें, प़ेम की गंगा बहा सके।। मुझे
सब तो हैं एक रब के बनाए,सब ही तो इंसान हैं।
हर एक दिल में जान है रब की,सब में तो भगवान है।।
सारी दुनिया के लोगों को,उस रब की हकीकत बता सके।
दिल में जलाए प़ेम की शम्मा, प्यार का रास्ता दिखा सके।।
चाहिए एक इंसान समर्पित,जो इंसानियत को बचा सके।
मुझे चाहिए इंसान एक ऐसा, साथ सभी का निभा सके।।
मुझे चाहिए दिल एक ऐसा,जो इंसानियत निभा सके।।
चाहिए एक बड़ा दिल ऐसा,जो सबको दिल में बिठा सके।
मुझे चाहिए एक ऐसा दिल,जो पर पीड़ा से पिघल सके।।
चलता रहे अनवरत पथ पर,कभी रुके न कभी थके।
प्रेम और करुणा भरा दिल,जो पर पीड़ा पर पिघल सके।। मुझे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
ज्योति कितना बड़ा पाप तुमने किया
gurudeenverma198
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
हार से डरता क्यों हैं।
हार से डरता क्यों हैं।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
पर्वत 🏔️⛰️
पर्वत 🏔️⛰️
डॉ० रोहित कौशिक
कितने पन्ने
कितने पन्ने
Satish Srijan
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
🙏
🙏
Neelam Sharma
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
Anjani Kumar
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
Harminder Kaur
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
आना भी तय होता है,जाना भी तय होता है
Shweta Soni
ईश्वर से यही अरज
ईश्वर से यही अरज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शान्त हृदय से खींचिए,
शान्त हृदय से खींचिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
मुद्रा नियमित शिक्षण
मुद्रा नियमित शिक्षण
AJAY AMITABH SUMAN
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शबे- फित्ना
शबे- फित्ना
मनोज कुमार
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
कभी भी ग़म के अँधेरों  से तुम नहीं डरना
कभी भी ग़म के अँधेरों से तुम नहीं डरना
Dr Archana Gupta
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
कवि रमेशराज
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
तुम हज़ार बातें कह लो, मैं बुरा न मानूंगा,
तुम हज़ार बातें कह लो, मैं बुरा न मानूंगा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
Monika Verma
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
कवि दीपक बवेजा
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
ज़िंदगी तज्रुबा वो देती है
ज़िंदगी तज्रुबा वो देती है
Dr fauzia Naseem shad
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
सत्य कुमार प्रेमी
*इन्टरनेट का पैक (बाल कविता)*
*इन्टरनेट का पैक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...