Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

चुनाव चालीसा

समय आ गया है वीरों,अब यह करके तुम्हें दिखाना है।
भारत की गरिमा की खातिर,अब फिर से कमल खिलाना है।।
बन चौकीदार जिस नायक ने भारत का मान बढ़ाया है।
उस नमो के मस्तक पर लगा तिलक अब जीत का परचम लहराना है।।
बिगुल बज गया चौबीस का जिसको हर घर घर तक पहुंचाना है।
इस बार तीन सौ सत्तर सीटों पर संसद में कमल खिलाना है।।
यह धरती उन शेरों की है जो अपने दम पर ललकारें भरते हैं।
भेड़िए बना ले झुंड अगर चुन चुन कर उनका शिकार भी करते हैं।।
भारत की समृद्धि की जोत जो नमो ने चौदह में सुलगाई थी।
उस जोत से बनी ज्वाला को तिरंगे संग देश विदेश में भी फहराना है।।
कसम उठाकर देशभक्ति की अब तो जाति धर्म से ऊपर उठ जाना है।
जिन हाथों में देश सुरक्षित है उनकी खातिर हर कड़ी को जोड़ते जाना है ।।
हर गरीब हर युवा हर महिला और हर किसान को यही समझाना है।
यह देश तुम्हारा ही है भारत, इस पर अब राज तुम्हारा ही आना है।।
यह कहे विजय बिजनौरी जरा उन चील और कव्वों को तो पहचानों।
जिनके पंजों से खींच देश तुम्हारा दिया तुम्हें तुम मानो या फिर ना मानो।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
भूख सोने नहीं देती
भूख सोने नहीं देती
Shweta Soni
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
पूर्वार्थ
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
The_dk_poetry
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
Atul "Krishn"
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
*मीठे बोल*
*मीठे बोल*
Poonam Matia
India is my national
India is my national
Rajan Sharma
धरती मेरी स्वर्ग
धरती मेरी स्वर्ग
Sandeep Pande
"किरायेदार"
Dr. Kishan tandon kranti
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संवेदनायें
संवेदनायें
Dr.Pratibha Prakash
प्रेम
प्रेम
Pratibha Pandey
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शैलजा छंद
शैलजा छंद
Subhash Singhai
2282.पूर्णिका
2282.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*कहते यद्यपि कर-कमल , गेंडे-जैसे हाथ
*कहते यद्यपि कर-कमल , गेंडे-जैसे हाथ
Ravi Prakash
-- दिव्यांग --
-- दिव्यांग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दीपावली
दीपावली
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जल का अपव्यय मत करो
जल का अपव्यय मत करो
Kumud Srivastava
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
gurudeenverma198
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
आप अपना
आप अपना
Dr fauzia Naseem shad
नव वर्ष
नव वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
😊काम बिगाड़ू भीड़😊
😊काम बिगाड़ू भीड़😊
*Author प्रणय प्रभात*
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
किए जिन्होंने देश हित
किए जिन्होंने देश हित
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
Loading...