साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

जो नारी का अपमान करेगा जग क्यों उसका सम्मान करेगा

Bhupendra Rawat जो नारी का अपमान करेगा जग क्यों उसका सम्मान करेगा जिस नारी ने जन्म दिया हे मूर्ख तू कैसे जन्म देने वाली माँ का अपमान करेगा नर्क होगा [...]

Read more

गजल

Sandhya Chaturvedi
जागती रात अकेली -सी लगे। तन्हाई एक सहेली-सी लगे। मुद्दतो से वीरान [...]

मै एक किसान हुँ

Sandhya Chaturvedi
रोती धरती और अम्बर मै परेशान हुँ हाँ मै एक किसान हुँ।। होती [...]

न जन्म से न धर्म से

Yash Tanha Shayar Hu
न जन्म से न धर्म से, इंसान बनता है अपने कर्म से, जब कभी होता है हनन [...]

सुन ले

Yash Tanha Shayar Hu
जितने भी चालाक लोग है सुन ले, अब मैं तुम्हें सजा देना चाहता हूँ, अब [...]

तू तो कठपुतली है उसका………

रोहित शर्मा
लाख कर ले चालाकी, तू उससे बच न पायेगा। समझा नहीं है रब को, तू उससे [...]

***अनुभव***

Neeru Mohan
* कहते हैं एक चिंगारी या तो आग लगाती है या प्रकाश फैलाती है । रोशनी [...]

“*”*अब तो दरस दिखा दो *”*”

Ranjana Mathur
श्यामल घटा आच्छादित है नभ। तडित भी दमकत है चहुंओर।। बदरा संग बरसत [...]

**नवरात्रि शुभ फलदायी**

Neeru Mohan
विषय- नवरात्रि /नौ देवियाँ रचनाकार -नीरू मोहन विद्या - तांका पूर्ण [...]

**आज भी तुझको याद करता हूँ**

Neeru Mohan
****गज़ल**** आज भी तुझको याद करता हूँ हर घड़ी इंतजार करता हूँ देखने को [...]

***खोजता स्वअस्तित्व अपना***

Neeru Mohan
विषय- खोज/तलाश रेंगा काव्य शैली 5+7+5+7+7+5+7+5+7+7----- * माँ दरबार मनोकामना [...]

सच की राहें

Maneelal Patel
यह किसने कह दिया कि सच की राहें मुश्किल है ? जबकि झूठ और फरेब से कुछ [...]

कुंडलिया… प्रीतम कृत

Radhey shyam Pritam
**************************** कुंडलिया-1 **************************** मित्रता [...]

देशभक्ति

sudesh Kumar
मेरे विचारों से जलना छोड़ दो जलना ही है तो सरहद पर जाकर दुश्मन की [...]

=_= असत् पर सत् की विजय =_=

Ranjana Mathur
दंभ आडम्बर छल प्रपंच का परिचायक था रावण। सत्य पौरुष मर्यादा व [...]

दिल के अरमा

Abhinav Kumar Yadav
तुमने मेरे अरमानों को समझा ही नहीं, मैने जताया तो बहुत था, तुमने [...]

सत्य छिपा है,प्रकट होता है,हौसला व जुनून चाहिए

Mahender Singh
***सत्य छिपा है, झूठ के मजबूत खोल में, हौसला और जुनून चाहिए, आवरण तोड़ [...]

तांका

Maneelal Patel
मनीभाई की तांका ●●●●●●●●●● नाचते देखा देव विसर्जन में लोगों को [...]

नारी : मातृभूमि

निहारिका सिंह
सुकुमार कुमुदिनी , लिए कृपाण , नयनों में लिए बदले के बाण । पति संग [...]

जीवन का शाश्वत सत्य

रोहित शर्मा
जीवन का शाश्वत सत्य भोर की बेला हुई, दिनकर की पलके खुली। इंतज़ार [...]

देश पूँछता कहाँ विभीषण

Laxminarayan Gupta
छाती सह्ती नित पद प्रहार होती सहिष्णुता तार तार हम बन कर गांधी बार [...]

शिक्षक का फर्ज व कर्तव्य

कृष्णकांत गुर्जर
बड़े हर्ष का बिषय है कि आज हमारा देश शिक्षा के क्षेत्र में एक उच्च [...]

खूनी गीत

RAJESH BANCHHOR
************************* जब भी मैंने कलम उठाया ! लिखने को कोई गीत नया !! कलम मेरे रूक [...]

नारी सृष्टि निर्माता के रूप में

पंकज 'प्रखर'
आज के लेख की शुरुआत दुर्गा सप्तशती के इस श्लोक से करता हूँ इसमें [...]

जीना सीख लिया है।

रीतेश माधव
बे-रंग नहीं रहेगी अब ज़िंदगी... मैंने रंग बदलना सीख लिया है कंटीले [...]

ग़ज़ल

DrSarojini Tanhaa
ज़िन्दगी की मुस्कराहट खो गयी। दर्द में जीने की आदत हो गयी।। एक [...]

मुक्तक

MITHILESH RAI
हार कर भी तेरी कहानी की तरह हूँ! हार कर भी तेरी निशानी की तरह [...]

” ——————————————- अब तक बाँच न पाया ” !!

भगवती प्रसाद व्यास
तेरी चाहत को पूजा है , सिर माथे बिठलाया ! आँखियों में क्यों नमी [...]

*” जिओ और जीने दो “*

Mahender Singh
*"जिओ और जीने दो"* आखिर कब तक मातम मनाते रहोगे, गाड़ी चलाते हुए फ़ोन पर [...]

*”समाज निजता में बाधक है”*

Mahender Singh
मैं कह न सका, हिचक मेरे मन में थी, वह सह न सकी, काफ़िर कह आगे बढ़ गई, मन [...]

सरल के दोहे

साहेबलाल 'सरल'
*चिंता छोड़ो अरु करो, अपने सारे काम।* *अगर काम को चाहते, देना तुम [...]