Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

19-कुछ भूली बिसरी यादों की

कुछ भूली बिसरी यादों की, सुंदर बड़ी कहानी है
वैसे तो कुछ और नहीं पर, यह जानी पहचानी है

गाँव हमारे नीम छाँव में, रहती मात भवानी है
लोग मानते है माँ जिसको, श्रद्धा भाव जुबानी है

बाबा काका रोज़ वहाँ पर, कीर्तन गाया करते थे
साथ उन्ही के हम भी यारो, झाल बजाया करते थे

वहाँ पुजारी जी जयकारा, रोज़ लगाया करते थे,
सुन के स्वर घण्टे की हम भी, दौड़े जाया करते थे।

जुटके पूरा गाँव वहाँ सब, ख़ुशी मनाया करता था
खाने से पहले ही माँ को, शीश नवाया करता था।।

बाबा के कन्धे पर बैठे, मेला जाया करते थे
और जलेबी बड़े चाव से, हम सब खाया करते थे।

लाल ,गुलाबी, हरी पतंगे, खूब उड़ाया करते थे
लुका-छुपी आइस बाइस से, धूम मचाया करते थे

बस्ता पटरी ले हम शाला, पैदल जाया करते थे
वहाँ गणित के शिक्षक से हम, डंडे खाया करते थे

बचपन का वो गाँव हमारा, यादों का अफसाना है।
गुजर गया जो वक्त ‘विमल’ फिर, लौट कहाँ अब आना है।।
अजय कुमार मौर्य ‘विमल’

Language: Hindi
1 Like · 149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोहरा और कोहरा
कोहरा और कोहरा
Ghanshyam Poddar
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
Satish Srijan
नकाबपोश रिश्ता
नकाबपोश रिश्ता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"अहसासों का समीकरण"
Dr. Kishan tandon kranti
आचार संहिता लगते-लगते रह गई
आचार संहिता लगते-लगते रह गई
Ravi Prakash
मै ठंठन गोपाल
मै ठंठन गोपाल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
पूर्वार्थ
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Akshay patel
सत्य यह भी
सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
" माटी की कहानी"
Pushpraj Anant
बेटियां
बेटियां
Manu Vashistha
सत्य तो सीधा है, सरल है
सत्य तो सीधा है, सरल है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
“आखिर मैं उदास क्यूँ हूँ?
“आखिर मैं उदास क्यूँ हूँ?
DrLakshman Jha Parimal
बलिदानी सिपाही
बलिदानी सिपाही
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ हास्यप्रदV सच
■ हास्यप्रदV सच
*Author प्रणय प्रभात*
परोपकार का भाव
परोपकार का भाव
Buddha Prakash
मुश्किल जब सताता संघर्ष बढ़ जाता है🌷🙏
मुश्किल जब सताता संघर्ष बढ़ जाता है🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
कवि रमेशराज
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
shabina. Naaz
कोई उम्मीद
कोई उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
जीवन बरगद कीजिए
जीवन बरगद कीजिए
Mahendra Narayan
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
कवि दीपक बवेजा
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी  सीख रही।
रावण था विद्वान् अगर तो समझो उसकी सीख रही।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
Loading...