Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

*होय जो सबका मंगल*

जंगल, नदिया, खेत हैं, बाग, ताल अरु कूप।
‘भारत’ ठंडी छाँव है, किन्तु ‘इंडिया’ धूप।।
किन्तु इंडिया धूप, छाँव तक को मन तरसे,
प्रीत-नेह का मेह, यहाँ फिर कैसे बरसे?
कह ‘पूनम’ कर कर्म, होय जो सब का मंगल,
नगर, गाँव तो दूर कि हर्षाये वन, जंगल।।

4 Likes · 2 Comments · 880 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुप्रभात
सुप्रभात
Seema Verma
ममतामयी मां
ममतामयी मां
SATPAL CHAUHAN
भूल कर
भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी "अश्क " बहाए होगे..?
Sandeep Mishra
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
Amit Pathak
हिदायत
हिदायत
Bodhisatva kastooriya
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
जी.आज़ाद मुसाफिर भाई
gurudeenverma198
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Anu dubey
वो लोग....
वो लोग....
Sapna K S
"When the storms of life come crashing down, we cannot contr
Manisha Manjari
*प्यार भी अजीब है (शिव छंद )*
*प्यार भी अजीब है (शिव छंद )*
Rituraj shivem verma
ये
ये
Shweta Soni
शीत .....
शीत .....
sushil sarna
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
Indu Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
Anjani Kumar
बहुत याद आता है वो वक़्त एक तेरे जाने के बाद
बहुत याद आता है वो वक़्त एक तेरे जाने के बाद
Dr. Seema Varma
वक्त के रूप में हम बदल जायेंगे...,
वक्त के रूप में हम बदल जायेंगे...,
कवि दीपक बवेजा
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
मैं फकीर ही सही हूं
मैं फकीर ही सही हूं
Umender kumar
"ॐ नमः शिवाय"
Radhakishan R. Mundhra
■ हास्यप्रदV सच
■ हास्यप्रदV सच
*Author प्रणय प्रभात*
*सूने पेड़ हुए पतझड़ से, उपवन खाली-खाली (गीत)*
*सूने पेड़ हुए पतझड़ से, उपवन खाली-खाली (गीत)*
Ravi Prakash
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
Loading...