Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-396💐

हर इक बात की शक़्ल बदल जाती हैं बे-एतिबार में,
हम जीते रहे बहुत जीते रहे उनके बा-एतिबार में,
आख़िर क़िल्लत कहाँ किस जग़ह रह गई दिल में,
बड़ा अफ़सोस हो रहा है क़ाबिल-ए-ए’तिबार में।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
65 Views
You may also like:
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
कृष्ण मलिक अम्बाला
रिश्तो मे गलतफ़हमी
रिश्तो मे गलतफ़हमी
Anamika Singh
समलैंगिकता-एक मनोविकार
समलैंगिकता-एक मनोविकार
मनोज कर्ण
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
किसी दिन
किसी दिन
shabina. Naaz
कुछ ख्वाब
कुछ ख्वाब
Rashmi Ratn
"एको देवः केशवो वा शिवो वा एकं मित्रं भूपतिर्वा यतिर्वा ।
Mukul Koushik
सच बोलने की हिम्मत
सच बोलने की हिम्मत
Shekhar Chandra Mitra
डरने लगता हूँ...
डरने लगता हूँ...
Aadarsh Dubey
"स्मार्ट कौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
आख़री तकिया कलाम
आख़री तकिया कलाम
Rohit yadav
*घर-घर में झगड़े हुए, घर-घर होते क्लेश 【कुंडलिया】*
*घर-घर में झगड़े हुए, घर-घर होते क्लेश 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
डायरी भर गई
डायरी भर गई
Dr. Meenakshi Sharma
यूं नहीं मिलती सफलता
यूं नहीं मिलती सफलता
Satish Srijan
* ग़ज़ल * ( ताजमहल बनाते रहना )
* ग़ज़ल * ( ताजमहल बनाते रहना )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
Sanjay
सबके हाथ में तराजू है ।
सबके हाथ में तराजू है ।
Ashwini sharma
आखिरी उम्मीद
आखिरी उम्मीद
Surya Barman
तेरा हम पर कहां
तेरा हम पर कहां
Dr fauzia Naseem shad
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
ऐतबार कर बैठा
ऐतबार कर बैठा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा मुसाफिर
होली गीत
होली गीत
umesh mehra
दूर ...के सम्बंधों की बात ही हमलोग करना नहीं चाहते ......और
दूर ...के सम्बंधों की बात ही हमलोग करना नहीं चाहते ......और
DrLakshman Jha Parimal
Unki julfo ki ghata bhi  shadid takat rakhti h
Unki julfo ki ghata bhi shadid takat rakhti h
Sakshi Tripathi
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
ठोकरे इतनी खाई है हमने,
ठोकरे इतनी खाई है हमने,
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-253💐
💐प्रेम कौतुक-253💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
Seema Verma
Loading...