Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 1 min read

“सागर तट पर”

“सागर तट पर”
सागर तट पर बैठा
खामोश सा
आँखों में कुछ ओस सा
ख्यालों में गुम
ना मैं था
और ना ही तुम।

1 Like · 1 Comment · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh
सच्ची  मौत
सच्ची मौत
sushil sarna
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
कवि रमेशराज
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
पूर्वार्थ
"" *मौन अधर* ""
सुनीलानंद महंत
मज़दूर
मज़दूर
Neelam Sharma
"वक्त के साथ"
Dr. Kishan tandon kranti
■ प्रभात चिंतन...
■ प्रभात चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
तपते सूरज से यारी है,
तपते सूरज से यारी है,
Satish Srijan
खामोशी ने मार दिया।
खामोशी ने मार दिया।
Anil chobisa
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
ruby kumari
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
*सवा लाख से एक लड़ाऊं ता गोविंद सिंह नाम कहांउ*
Harminder Kaur
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Really true nature and Cloud.
Really true nature and Cloud.
Neeraj Agarwal
तुम तो मुठ्ठी भर हो, तुम्हारा क्या, हम 140 करोड़ भारतीयों का भाग्य उलझ जाएगा
तुम तो मुठ्ठी भर हो, तुम्हारा क्या, हम 140 करोड़ भारतीयों का भाग्य उलझ जाएगा
Anand Kumar
***दिल बहलाने  लाया हूँ***
***दिल बहलाने लाया हूँ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दीपावली
दीपावली
Deepali Kalra
कविता// घास के फूल
कविता// घास के फूल
Shiva Awasthi
हाँ, मेरा यह खत
हाँ, मेरा यह खत
gurudeenverma198
राह पर चलना पथिक अविराम।
राह पर चलना पथिक अविराम।
Anil Mishra Prahari
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Bodhisatva kastooriya
बस यूं ही
बस यूं ही
MSW Sunil SainiCENA
कुछ भी तो इस जहाँ में
कुछ भी तो इस जहाँ में
Dr fauzia Naseem shad
स्याही की मुझे जरूरत नही
स्याही की मुझे जरूरत नही
Aarti sirsat
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बड़े दिलवाले
बड़े दिलवाले
Sanjay ' शून्य'
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
कहां जाके लुकाबों
कहां जाके लुकाबों
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
देख तो ऋतुराज
देख तो ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
Loading...