Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

शीर्षक:-कृपालु सदा पुरुषोत्तम राम।

#दिनांक:-5/5/2024
शीर्षक:-कृपालु सदा पुरुषोत्तम राम।

दुष्ट विनाशक भक्ति-बलधाम,
राम भजन जिनका नित काम,
अंजनी लाल रूद्र अवतारी,
जय श्रीराम जय-जय हनुमान।

श्रद्धापूरित विनती करती ,
एक अरज बस तुमसे कहती।
शक्ति,भक्ति-अनुरक्ति चाहिए,
विनयी,बुद्धि-विरक्ति चाहिए।

कृपालु सदा पुरुषोत्तम राम,
स्नेहापूरित दिव्य ललाम।
आप प्रभु के हृदय बिराजे,
वृत्ति आसुरी नष्ट हो,
बने श्रेष्ठ मनुष्य महान ।

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
2 Likes · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मतदान दिवस
मतदान दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
Harminder Kaur
हो नजरों में हया नहीं,
हो नजरों में हया नहीं,
Sanjay ' शून्य'
मुस्कुराते रहो
मुस्कुराते रहो
Basant Bhagawan Roy
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
Suryakant Dwivedi
2456.पूर्णिका
2456.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इक पखवारा फिर बीतेगा
इक पखवारा फिर बीतेगा
Shweta Soni
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
Neelam Sharma
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
हम कोई भी कार्य करें
हम कोई भी कार्य करें
Swami Ganganiya
खुशियों की सौगात
खुशियों की सौगात
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल-ए-मज़बूर ।
दिल-ए-मज़बूर ।
Yash Tanha Shayar Hu
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Quote..
Quote..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तितलियां
तितलियां
Adha Deshwal
जो कायर अपनी गली में दुम हिलाने को राज़ी नहीं, वो खुले मैदान
जो कायर अपनी गली में दुम हिलाने को राज़ी नहीं, वो खुले मैदान
*प्रणय प्रभात*
*पाते जन्म-मरण सभी, स्वर्ग लोक के भोग (कुंडलिया)*
*पाते जन्म-मरण सभी, स्वर्ग लोक के भोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
घणो ललचावे मन थारो,मारी तितरड़ी(हाड़ौती भाषा)/राजस्थानी)
घणो ललचावे मन थारो,मारी तितरड़ी(हाड़ौती भाषा)/राजस्थानी)
gurudeenverma198
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
Satyaveer vaishnav
सपने का सफर और संघर्ष आपकी मैटेरियल process  and अच्छे resou
सपने का सफर और संघर्ष आपकी मैटेरियल process and अच्छे resou
पूर्वार्थ
छोड़ दो
छोड़ दो
Pratibha Pandey
"लिखना है"
Dr. Kishan tandon kranti
गौतम बुद्ध है बड़े महान
गौतम बुद्ध है बड़े महान
Buddha Prakash
सतरंगी इंद्रधनुष
सतरंगी इंद्रधनुष
Neeraj Agarwal
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
DrLakshman Jha Parimal
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जनवरी हमें सपने दिखाती है
जनवरी हमें सपने दिखाती है
Ranjeet kumar patre
नयनजल
नयनजल
surenderpal vaidya
*मैं और मेरी तन्हाई*
*मैं और मेरी तन्हाई*
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...