Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

“वो जिन्दगी”

“वो जिन्दगी”
कभी चॉकलेट की कर लेते चोरी
फिर भी करते सीना-जोरी
अब सोचता हूँ
वही रब की बन्दगी थी
सच में
वो ही जिन्दगी, जिन्दगी थी।

1 Like · 1 Comment · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
#पर्व_का_सार
#पर्व_का_सार
*Author प्रणय प्रभात*
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
जब तुम हारने लग जाना,तो ध्यान करना कि,
पूर्वार्थ
World stroke day
World stroke day
Tushar Jagawat
*पूरी करके देह सब, जाते हैं परलोक【कुंडलिया】*
*पूरी करके देह सब, जाते हैं परलोक【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
कृष्णकांत गुर्जर
बरस रहे है हम ख्वाबो की बरसात मे
बरस रहे है हम ख्वाबो की बरसात मे
देवराज यादव
क्या सत्य है ?
क्या सत्य है ?
Buddha Prakash
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
Rajesh Kumar Arjun
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
Minakshi
2799. *पूर्णिका*
2799. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
Sanjay ' शून्य'
नमः शिवाय ।
नमः शिवाय ।
Anil Mishra Prahari
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
Shyam Pandey
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
Ravi Betulwala
गुलाम
गुलाम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कोई नहीं देता...
कोई नहीं देता...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"काल-कोठरी"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ शारदे
माँ शारदे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नगमे अपने गाया कर
नगमे अपने गाया कर
Suryakant Dwivedi
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
कभी-कभी
कभी-कभी
Sûrëkhâ
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
Rekha khichi
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
DrLakshman Jha Parimal
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
Manoj Mahato
नींद
नींद
Kanchan Khanna
आदरणीय क्या आप ?
आदरणीय क्या आप ?
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मोह मोह के चाव में
मोह मोह के चाव में
Harminder Kaur
Loading...