Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 2 min read

वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता

वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
~~°~~°~~°
करके विनष्ट संस्कार अपना हम,
यदि वेलेंटाइन डे मनाते हैं।
तो वेलेंटाइन की आत्मा को हम,
अतिघोर कष्ट पहुंचाते हैं।

अनीति व्यभिचार पसरा पश्चिम में,
वो प्रेम का महत्त्व बतलाते थे।
कहते थे जाकर भारत को देखो,
कैसे प्रेम में जीवन खपाते हैं ।

पशुओं सी जीवन शैली थी ,
दाम्पत्य बदहाल था व जीवन स्वछंद।
तन की लिप्सा में लिपटी खुशियाँ थी ,
दर्शन नहीं कोई ,बस क्षणिक आनंद।

वो तो थे संत ईसाई पादरी,
पर हुए चिंतित,देख युवा संस्कार।
प्रेम सप्ताह का आयोजन करवाया,
कहा, करो ना अब तुम व्यभिचार ।

लक्ष्य था उनका पश्चिम निर्मल हो ,
युवा वर्ग हो पूरब सा अक्लमंद ।
चौराहे पर उन्हें दे दी गई फांसी ,
जब खुले विचारों पर लगा पाबंद।

प्रेम अनुभूति में अनुयायी उनके ,
वेलेंटाइन डे सदियों से मनाते हैं।
कर याद उनके बलिदानों को ,
पावन प्रेम का गीत सुनाते हैं ।

इसके उलट भारत को देखो ,
कैसे वेलेंटाइन डे पर इतराते हैं।
उन पेड़ों को भी आती है लज्जा ,
जिस आड़ में कुकर्म रचे जाते हैं।

सोनागाछी जो था अतीत में ,
अब पग-पग पर बन जाते हैं।
वेश्यावृत्ति एप भी बन गया अब तो,
साजिश कर युवाओं को फँसातें हैं।

आती थी जिन शब्दों से लज्जा ,
खुलेआम जगह वो क्यूँ पाते हैं।
वेश्यावृति को नया नाम मिल गया,
लिव इन रिलेशनशिप कहलाते हैं।

बहनी थी जिस प्रेम की गंगा ,
वो कहीं नजर नहीं आते हैं।
वेलेंटाइन डे भारत के परिप्रेक्ष्य में,
अप्रासंगिक ही दिख जाते हैं ।

मौलिक और स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १९ /०२ /२०२३
फाल्गुन ,कृष्ण पक्ष ,चतुर्दशी ,रविवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

2 Likes · 2 Comments · 627 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
"सुन रहा है न तू"
Pushpraj Anant
मेरी नज्म, मेरी ग़ज़ल, यह शायरी
मेरी नज्म, मेरी ग़ज़ल, यह शायरी
VINOD CHAUHAN
शिव तेरा नाम
शिव तेरा नाम
Swami Ganganiya
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
-- फ़ितरत --
-- फ़ितरत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बचपन कितना सुंदर था।
बचपन कितना सुंदर था।
Surya Barman
ये कैसा घर है. . . .
ये कैसा घर है. . . .
sushil sarna
हमको तेरा ख़्याल
हमको तेरा ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
*
*"ममता"* पार्ट-4
Radhakishan R. Mundhra
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
😊😊😊
😊😊😊
*प्रणय प्रभात*
कुंए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है
कुंए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है
शेखर सिंह
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
Neeraj Agarwal
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
PK Pappu Patel
महादान
महादान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
पुरानी गली के कुछ इल्ज़ाम है अभी तुम पर,
पुरानी गली के कुछ इल्ज़ाम है अभी तुम पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
हमने तुमको दिल दिया...
हमने तुमको दिल दिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हो सके तो मुझे भूल जाओ
हो सके तो मुझे भूल जाओ
Shekhar Chandra Mitra
2836. *पूर्णिका*
2836. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
कितना रोके मगर मुश्किल से निकल जाती है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
उदास शख्सियत सादा लिबास जैसी हूँ
उदास शख्सियत सादा लिबास जैसी हूँ
Shweta Soni
।। धन तेरस ।।
।। धन तेरस ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"बल"
Dr. Kishan tandon kranti
एक तिरंगा मुझको ला दो
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Loading...