Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

मैं तो महज आग हूँ

मैं तो महज आग हूँ
कभी मन में लगी
कभी तन में लगी
मैं तो महज आग हूँ
कभी नफरत की
कभी हसरत की
मैं तो महज आग हूँ
घर में गुमनाम मैं
जंगल में बदनाम मैं
मैं तो महज आग हूँ
भेंट मैं भगवान की
ताकत हूँ इंसान की
मैं तो महज आग हूँ
छोड़ मुझसे खेलना
V9द पड़ेगा झेलना
मैं तो महज आग हूँ

3 Likes · 266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
3494.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3494.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
Shweta Soni
■ लीजिए संकल्प...
■ लीजिए संकल्प...
*Author प्रणय प्रभात*
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
यादों के तटबंध ( समीक्षा)
यादों के तटबंध ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
यह जीवन अनमोल रे
यह जीवन अनमोल रे
विजय कुमार अग्रवाल
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
Shyam Sundar Subramanian
वक़्त की फ़ितरत को
वक़्त की फ़ितरत को
Dr fauzia Naseem shad
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
मेनका की मी टू
मेनका की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अगर एक बार तुम आ जाते
अगर एक बार तुम आ जाते
Ram Krishan Rastogi
दोहे
दोहे
डॉक्टर रागिनी
मिसाइल मैन को नमन
मिसाइल मैन को नमन
Dr. Rajeev Jain
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तुम भी जनता मैं भी जनता
तुम भी जनता मैं भी जनता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम
प्रेम
Pratibha Pandey
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
surenderpal vaidya
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
(23) कुछ नीति वचन
(23) कुछ नीति वचन
Kishore Nigam
करवा चौथ
करवा चौथ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
हमेशा समय के साथ चलें,
हमेशा समय के साथ चलें,
नेताम आर सी
"वरना"
Dr. Kishan tandon kranti
मिलन
मिलन
Bodhisatva kastooriya
*छोड़ा पीछे इंडिया, चले गए अंग्रेज (कुंडलिया)*
*छोड़ा पीछे इंडिया, चले गए अंग्रेज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
एक तूही दयावान
एक तूही दयावान
Basant Bhagawan Roy
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
विचारिए क्या चाहते है आप?
विचारिए क्या चाहते है आप?
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अपने चरणों की धूलि बना लो
अपने चरणों की धूलि बना लो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...