Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2021 · 1 min read

माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच

माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
उलझा हुआ है दिल ये, ग़मे-दो जहां के बीच

कोई तो है मक़ाम तिरा मर्कज़े – सजूद
खोई हुई जबीं है कई आस्ताँ के बीच

मैं छू सका न आज तलक, जिस्मे-बू-ए-गुल
कहने को यूं तो उम्र कटी गुलसिताँ के बीच

दोनों ही हैं अज़ीज़ मुझे जानो – क़ल्ब से
मत फ़र्क़ डाल हिंदी-ओ-ऊर्दू ज़ुबाँ के बीच

तुम पारखी निगाह से आसी करो तलाश
मदफ़न हैं कितने जिस्म ज़मींआसमाँ के बीच
_______◆_________
सरफ़राज़ अहमद आसी

1 Comment · 270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
21 उम्र ढ़ल गई
21 उम्र ढ़ल गई
Dr .Shweta sood 'Madhu'
खुशियों की आँसू वाली सौगात
खुशियों की आँसू वाली सौगात
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
Bidyadhar Mantry
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
*प्रणय प्रभात*
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
The_dk_poetry
थूंक पॉलिस
थूंक पॉलिस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं उसकी निग़हबानी का ऐसा शिकार हूँ
मैं उसकी निग़हबानी का ऐसा शिकार हूँ
Shweta Soni
अब देर मत करो
अब देर मत करो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
"पूछो जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
अनिल कुमार
मन का जादू
मन का जादू
Otteri Selvakumar
बे खुदी में सवाल करते हो
बे खुदी में सवाल करते हो
SHAMA PARVEEN
फितरत अमिट जन एक गहना
फितरत अमिट जन एक गहना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
निराशा एक आशा
निराशा एक आशा
डॉ. शिव लहरी
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अरमान
अरमान
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
* मुस्कुराना *
* मुस्कुराना *
surenderpal vaidya
*उड़ीं तब भी पतंगें जब, हवा का रुख नहीं मिलता (मुक्तक)*
*उड़ीं तब भी पतंगें जब, हवा का रुख नहीं मिलता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दोहा त्रयी. . . . .
दोहा त्रयी. . . . .
sushil sarna
कोई बिगड़े तो ऐसे, बिगाड़े तो ऐसे! (राजेन्द्र यादव का मूल्यांकन और संस्मरण) / MUSAFIR BAITHA
कोई बिगड़े तो ऐसे, बिगाड़े तो ऐसे! (राजेन्द्र यादव का मूल्यांकन और संस्मरण) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*कहर  है हीरा*
*कहर है हीरा*
Kshma Urmila
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
शेखर सिंह
परिश्रम
परिश्रम
ओंकार मिश्र
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
Shalini Mishra Tiwari
मायने रखता है
मायने रखता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुविचार
सुविचार
Sarika Dhupar
Loading...