Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

भला लगता है

परिंदों का चहचहाना
भला लगता है।
फसलों का लहलहाना
भला लगता है।
तुतली बोली में पूछे
मासूम सवालों को
सुलझाना
भला लगता है।
एकांत में बैठकर
चुपके-चुपके
गुनगुनाना
भला लगता है।
शोख चंचल ऑंखों में
शरारत का‌
तैर जाना
भला लगता है।
किसी की भीगी हुई
पलकों को
हॅंसाना
भला लगता है।
और मुझे
तेरा हौले से
मुस्कुराना
भला लगता है।

—प्रतिभा आर्य
चेतन एनक्लेव,
अलवर(राजस्थान)

Language: Hindi
1 Like · 249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
View all
You may also like:
“गुरुर मत करो”
“गुरुर मत करो”
Virendra kumar
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
💐प्रेम कौतुक-277💐
💐प्रेम कौतुक-277💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*पत्रिका का नाम : इंडियन थियोसॉफिस्ट*
*पत्रिका का नाम : इंडियन थियोसॉफिस्ट*
Ravi Prakash
गजल
गजल
Anil Mishra Prahari
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
Dr. Man Mohan Krishna
"खैरात"
Dr. Kishan tandon kranti
सफर
सफर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरे रहबर मेरे मालिक
मेरे रहबर मेरे मालिक
gurudeenverma198
श्रम कम होने न देना _
श्रम कम होने न देना _
Rajesh vyas
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
Anil chobisa
हृदय कुंज  में अवतरित, हुई पिया की याद।
हृदय कुंज में अवतरित, हुई पिया की याद।
sushil sarna
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Ritu Asooja
एहसास
एहसास
Vandna thakur
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
खुद से प्यार
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
छन्द- सम वर्णिक छन्द
छन्द- सम वर्णिक छन्द " कीर्ति "
rekha mohan
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
कौड़ी कौड़ी माया जोड़े, रटले राम का नाम।
Anil chobisa
சிந்தனை
சிந்தனை
Shyam Sundar Subramanian
रिश्ते
रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फागुन का महीना आया
फागुन का महीना आया
Dr Manju Saini
उसे लगता है कि
उसे लगता है कि
Keshav kishor Kumar
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
शेखर सिंह
■ ऐसा लग रहा है मानो पहली बार हो रहा है चुनाव।
■ ऐसा लग रहा है मानो पहली बार हो रहा है चुनाव।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...