Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

बहुत दाम हो गए

बहुत दाम हो गए
बौनेजी ने पाई कुर्सी उनके उचे दाम हो गए,
भाषा पर बढ़ गई चाशनी शब्द रसीले आम हो गए।
गांजा छोड़ा छोड़ी ताड़ी
अब वे संत कबीर हो गए
दर पर्दा है पाएं दौलत
दिखते ऐसे जैसे फकीर हो गए,
छाई रहती हरदम मस्ती भक्तों के वे राम हो गए।
दुनिया भर की सुख सुविधा उनके चारों ओर घूमती संतो जैसा पहने बाना जनता उनके चरण चूमती, तूती उनकी बोला करती बापू सीताराम हो गए।
जाते रहते थे कोठे पर,
अब संसद को शोभित करते
नई अदाओं के बूते पर जनता को संबोधित करते
क्या किस्मत ने पलटा खाया देश में वे सुनाम हो गए।
बहुत दम हो गए बहुत दाम हो गए।
:राकेश देवडे़ बिरसावादी

Language: Hindi
35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन तो मन है
मन तो मन है
Pratibha Pandey
गणेश जी पर केंद्रित विशेष दोहे
गणेश जी पर केंद्रित विशेष दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"मेरे तो प्रभु श्रीराम पधारें"
राकेश चौरसिया
विषय: शब्द विद्या:- स्वछंद कविता
विषय: शब्द विद्या:- स्वछंद कविता
Neelam Sharma
गुरु दक्षिणा
गुरु दक्षिणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"धरती"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
Lokesh Sharma
है जरूरी हो रहे
है जरूरी हो रहे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
sushil sarna
सही पंथ पर चले जो
सही पंथ पर चले जो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हार पर प्रहार कर
हार पर प्रहार कर
Saransh Singh 'Priyam'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
नववर्ष
नववर्ष
Neeraj Agarwal
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
सत्य कुमार प्रेमी
जब प्यार है
जब प्यार है
surenderpal vaidya
*
*"गुरू पूर्णिमा"*
Shashi kala vyas
रास्ते
रास्ते
Ritu Asooja
मान बुजुर्गों की भी बातें
मान बुजुर्गों की भी बातें
Chunnu Lal Gupta
...........!
...........!
शेखर सिंह
3293.*पूर्णिका*
3293.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*जीवन में तुकबंदी का महत्व (हास्य व्यंग्य)*
*जीवन में तुकबंदी का महत्व (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
वसंत
वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"वक्त की बेड़ियों में कुछ उलझ से गए हैं हम, बेड़ियाँ रिश्तों
Sakshi Singh
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
पूर्वार्थ
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
नेताम आर सी
■
■ "डमी" मतलब वोट काटने के लिए खरीद कर खड़े किए गए अपात्र व अय
*प्रणय प्रभात*
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
आनंद प्रवीण
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
Loading...