Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2019 · 1 min read

धूल में नहाये लोग

क्या देखे हैं कभी?
धूल में नहाये लोग,

जमीन के नीचे से उठकर
जब तक नहीं छूने लगीं
वो इमारतें, मीनारें, अट्टालिकाएं
आकाश को,
घेरे रहे उनको ये
धूल में नहाये लोग ।।

चेहरे बदलते रहे
और वक़्त भी साथ-साथ,
नहीं बदली मगर
इन चेहरों की खासियत

धूल में नहाने की,
धूल में समाने की,
धूल को जोड़कर
बुलंदियां बनाने की,
तिनका-तिनका जोड़कर
इमारत बनाते लोग,
धूल में नहाये लोग ।।

आदत है, आवश्यकता है
इनकी ये धूल,
जीवन के हर मोड़ पर
समायी इनमे धूल
बचपन से जवानी
और जवानी से बुढ़ापे तक
या जब तक है शक्ति,
धूल में मिल जाने तक,
अपने सर पर धूल का
बोझा उठाये लोग,
धूल में नहाये लोग ।।

धूल का फांका भी,
धूल से रोटी भी;
धूल के ही दम पर,
उसकी नाक का मोती भी.
धूल के ही जोर पर,
धूल की ही चाहत में,
थक हार कर रात को
हंडिया चढाते लोग,
धूल में नहाये लोग ।।

धूल से ही उत्सव हैं,
पर्व हैं, त्यौहार हैं,
धूल में ही जीवन की
जीत है, हार है.
धूल भरी आंधियों से
रार लगाये लोग,
धूल में नहाए लोग.

दीपक कुमार श्रीवास्तव ” नील पदम् “

6 Likes · 5 Comments · 435 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
इक झटका सा लगा आज,
इक झटका सा लगा आज,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
#शुभ_दिवस
#शुभ_दिवस
*Author प्रणय प्रभात*
हिकारत जिल्लत
हिकारत जिल्लत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काश हुनर तो..
काश हुनर तो..
Dr. Kishan tandon kranti
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
VINOD CHAUHAN
*सिखलाऍं सबको दया, करिए पशु से नेह (कुंडलिया)*
*सिखलाऍं सबको दया, करिए पशु से नेह (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*
*"माँ"*
Shashi kala vyas
ईज्जत
ईज्जत
Rituraj shivem verma
जाति है कि जाती नहीं
जाति है कि जाती नहीं
Shekhar Chandra Mitra
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बाधा को 'चल हट' कहता है,
बाधा को 'चल हट' कहता है,
Satish Srijan
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
Sandeep Mishra
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
आर.एस. 'प्रीतम'
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
तड़प कर मर रही हूं तुझे ही पाने के लिए
तड़प कर मर रही हूं तुझे ही पाने के लिए
Ram Krishan Rastogi
वक़्त की मुट्ठी से
वक़्त की मुट्ठी से
Dr fauzia Naseem shad
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
Babli Jha
उड़ान
उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
वास्तविक प्रकाशक
वास्तविक प्रकाशक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
सुबह की चाय हम सभी पीते हैं
Neeraj Agarwal
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
ज्योतिर्मय
ज्योतिर्मय
Pratibha Pandey
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
Birthday wish
Birthday wish
Ankita Patel
Loading...