Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

धरा

धरा करुण क्रन्दन करती
प्रतिक्षण पीड़ा से तड़पती
रसायनों को रोकना होगा
प्रकृति को सहेजना होगा

आओ मिलकर ये प्रण करें
माँ धरती की हम गोद भरें
हरी-भरी धानी चुनर से
सजाये उसका स्वरूप फिर से

मृदा,जल वायु को रक्षित करें
अनगिनत हम पेड़ लगायें
वायुमंडल की देखभाल करें
न उसको कभी दूषित करें

क्यों पेड़ पौधे काटते?
हरितिमा को भिन्न छाँटते
तीतर ,बटेर तब न दिखेंगे
घर,आंगन यूँ सुने पड़ेंगे

वृक्षों को कभी न काटना
मनुज बन प्रसन्नता बांटना
प्रयत्न करो हरियाली फैले
पशु,परिंदे पीड़ा न झेले

गर होगी सदा धरा हरी भरी
रोगों से होगी कोसों दूरी
पक्षियों के बृहत घोंसले
चहचाहट चहुंओर फैले

नियम प्रकृति के न तोड़ना
धरा को तुम स्वतंत्र छोड़ना
कर्म ये वरदान बनेगा
धरा पर यूँ स्वर्ग सजेगा

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

1 Like · 1 Comment · 369 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
प्रेमदास वसु सुरेखा
देवतुल्य है भाई मेरा
देवतुल्य है भाई मेरा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
–स्वार्थी रिश्ते —
–स्वार्थी रिश्ते —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
2353.पूर्णिका
2353.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
नूरफातिमा खातून नूरी
तेरा ग़म
तेरा ग़म
Dipak Kumar "Girja"
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
Anil chobisa
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कहना तो बहुत कुछ है
कहना तो बहुत कुछ है
पूर्वार्थ
गम के बगैर
गम के बगैर
Swami Ganganiya
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
Ranjeet kumar patre
मौत ने पूछा जिंदगी से,
मौत ने पूछा जिंदगी से,
Umender kumar
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
पंकज कुमार कर्ण
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
Raju Gajbhiye
साहसी बच्चे
साहसी बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तकते थे हम चांद सितारे
तकते थे हम चांद सितारे
Suryakant Dwivedi
फूल
फूल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
मनोकामनी
मनोकामनी
Kumud Srivastava
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
Anand Kumar
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
Vivek Pandey
"एकान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
चमचे और चिमटे जैसा स्कोप
*प्रणय प्रभात*
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
ओसमणी साहू 'ओश'
मैं दुआ करता हूं तू उसको मुकम्मल कर दे,
मैं दुआ करता हूं तू उसको मुकम्मल कर दे,
Abhishek Soni
अदब से उतारा होगा रब ने ख्बाव को मेरा,
अदब से उतारा होगा रब ने ख्बाव को मेरा,
Sunil Maheshwari
Loading...