Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2023 · 1 min read

द्रोपदी फिर…..

द्रोपदी फिर त्रस्त हुई
भरी सभा मे निर्वस्त्र हुई
है दुर्योधन दुश्शासन खड़े
विकराल हँसी हँसते बड़े

थे सभा सैकड़ों लोग खड़े
चुप थे या मृत बेहोश पड़े
निरीह जीव सा उसे सताते
झूठा,पौरूष दम्भ दिखलाते

निर्दयता करते शर्म न आई
क्रूरता यूँ तुमने दिखलाई
जन्म दिया था जिस माता ने
कोख उसकी तुमने लजाई

असुर सी प्रवृत्ति दिखलाई
क्रुन्दन उसका न दिया सुनाई
तड़पकर चीखती तो होगी
लाचारी पर बिखरी होगी

कहीं तो कन्या पूजी जाती
कहीं स्त्री अबला कहलाती
हाय ये मृत सभ्यता कैसी
गति उसकी नही एक जैसी

हाथ पे एक धागा होगा
सूत्र बहन ने बाँधा होगा
हाथ फिर कैसे यूँ उठ गए
अस्मत उस बहन की लूट गए

खत्म करो ऐसी व्यवस्थाओं को
सजा दो उन गुनहगारों को
कब स्त्री बेख़ौफ़ मुस्कुराएगी
मानवता वही विजयी होगी

बंद करो इन अत्याचारों को
न बिखराओ इन सितारों को
अंत इक दिन ही दिखलायेगा
धरा से निशान मिट जाएगा।।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन करता है अभी भी तेरे से मिलने का
मन करता है अभी भी तेरे से मिलने का
Ram Krishan Rastogi
"सैनिक की चिट्ठी"
Ekta chitrangini
रही सोच जिसकी
रही सोच जिसकी
Dr fauzia Naseem shad
ज्योतिर्मय
ज्योतिर्मय
Pratibha Pandey
*नदियाँ पेड़ पहाड़ हैं, जीवन का आधार(कुंडलिया)*
*नदियाँ पेड़ पहाड़ हैं, जीवन का आधार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गहरी हो बुनियादी जिसकी
गहरी हो बुनियादी जिसकी
कवि दीपक बवेजा
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
Shweta Soni
*बस एक बार*
*बस एक बार*
Shashi kala vyas
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
कवि रमेशराज
ए जिंदगी ,,
ए जिंदगी ,,
श्याम सिंह बिष्ट
सच समझने में चूका तंत्र सारा
सच समझने में चूका तंत्र सारा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरा महबूब आ रहा है
मेरा महबूब आ रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
■ तुकबंदी कविता नहीं।।
*Author प्रणय प्रभात*
शादी अगर जो इतनी बुरी चीज़ होती तो,
शादी अगर जो इतनी बुरी चीज़ होती तो,
पूर्वार्थ
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
"अविस्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
Vishal babu (vishu)
बाल गीत
बाल गीत "लंबू चाचा आये हैं"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
मेरी मां।
मेरी मां।
Taj Mohammad
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
प्रेम और पुष्प, होता है सो होता है, जिस तरह पुष्प को जहां भी
प्रेम और पुष्प, होता है सो होता है, जिस तरह पुष्प को जहां भी
Sanjay ' शून्य'
श्रृंगार
श्रृंगार
Neelam Sharma
आज़ादी की क़ीमत
आज़ादी की क़ीमत
Shekhar Chandra Mitra
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
Surinder blackpen
3227.*पूर्णिका*
3227.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
सीता ढूँढे राम को,
सीता ढूँढे राम को,
sushil sarna
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
पापा
पापा
Satish Srijan
Loading...