Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2022 · 1 min read

दिवस नहीं मनाये जाते हैं…!!!

देश में हमारे दिवस नहीं
मनाये जाते हैं।

पितृ दिवस, मातृ दिवस,
शिक्षक दिवस,
संस्कारों में हमारे यहाँ,
सिखाये जाते हैं।
देश में हमारे दिवस नहीं
मनाये जाते हैं,

बात – बेबात हम
सोशल मीडिया पर
चोचलेबाजी दर्शाते हुए,
फोटो नहीं चिपकाते हैं,
देश में हमारे दिवस नहीं
मनाये जाते हैं।

सदियों से पूज्य हैं,
मात-पिता, गुरूजन हमारे,
परंपरागत रूप से,
प्रतिदिन शीश चरणों में,
सम्मानपूर्वक झुकाते हैं,
देश में हमारे दिवस नहीं,
मनाये जाते हैं।

पितृ वचन पालन हेतु,
श्रीराम वनवास,
मात-पिता बंधन-मुक्ति हेतु
छोड़ गोकुल श्रीकृष्ण मथुरा,
दौड़े चले आते हैं।
देश में हमारे दिवस नहीं,
मनाये जाते हैं।

सम्मान में शिक्षक द्रोण के,
शिष्य एकलव्य से,
गुरू-दक्षिणा में काट अंगूठा,
नतमस्तक हो श्रद्धापूर्वक,
अर्पण कर जाते हैं।
देश में हमारे दिवस नहीं,
मनाये जाते हैं।

अद्भुत, अमिट संस्कृति हमारी,
गर्व हमें हैं हम भारतवासी,
हृदय-मन्दिर में मात-पिता,
गुरू नित भगवान से,
पूजे जाते हैं।
देश में हमारे दिवस नहीं,
मनाये जाते हैं।

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- १९/०६/२०२२.

Language: Hindi
1 Like · 4 Comments · 324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
Bidyadhar Mantry
ज़माने भर को हर हाल में हंसाने का हुनर है जिसके पास।
ज़माने भर को हर हाल में हंसाने का हुनर है जिसके पास।
शिव प्रताप लोधी
मुद्दा मंदिर का
मुद्दा मंदिर का
जय लगन कुमार हैप्पी
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अगर मैं अपनी बात कहूँ
अगर मैं अपनी बात कहूँ
ruby kumari
त्याग
त्याग
Punam Pande
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Dipak Kumar "Girja"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ भी नहीं हमको फायदा, तुमको अगर हम पा भी ले
कुछ भी नहीं हमको फायदा, तुमको अगर हम पा भी ले
gurudeenverma198
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
Dr.Rashmi Mishra
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
#आलेख-
#आलेख-
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
3490.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3490.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
गीत गाऊ
गीत गाऊ
Kushal Patel
दिल का दर्द, दिल ही जाने
दिल का दर्द, दिल ही जाने
Surinder blackpen
*पति-पत्नी दो श्वास हैं, किंतु एक आभास (कुंडलिया)*
*पति-पत्नी दो श्वास हैं, किंतु एक आभास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
Jitendra Chhonkar
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन के आधार पिता
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
श्री श्याम भजन
श्री श्याम भजन
Khaimsingh Saini
" उज़्र " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
सत्य कुमार प्रेमी
* साथ जब बढ़ना हमें है *
* साथ जब बढ़ना हमें है *
surenderpal vaidya
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
Loading...