Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

दहन अगर करना ही है तो

दहन अगर करना ही है तो, अहंकार रूपी रावण का दहन करो।
दहन अगर करना ही है तो, काम रूपी मेघनाद का दहन करो।
दहन अगर करना ही है तो,मोह रूपी कुंभकरण का दहन करो।
अहंकार काम मोह, तीनों बंधन कारी हैं
मानस मन के रोग, तीनों महा विकारी हैं
जब तक तीनों जिंदा हैं, मुक्ति नहीं संभव है
जब तक शमन नहीं होगा, विजया दशमी असंभव है
अंतस की विजया दशमी मनाओ,पार विकारों पर पाओ
साफ करें अंतर्मन अपना,पाले हुए विकार जलाओ

आप सभी को विजयदशमी पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
* वर्षा ऋतु *
* वर्षा ऋतु *
surenderpal vaidya
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
"पंछी"
Dr. Kishan tandon kranti
बेटी एक स्वर्ग परी सी
बेटी एक स्वर्ग परी सी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ऊंचाई को छूने में गिरना भी लाजमी है
ऊंचाई को छूने में गिरना भी लाजमी है
'अशांत' शेखर
■ 100% तौहीन...
■ 100% तौहीन...
*Author प्रणय प्रभात*
*** अहसास...!!! ***
*** अहसास...!!! ***
VEDANTA PATEL
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
देवराज यादव
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
Er. Sanjay Shrivastava
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
कवि दीपक बवेजा
कभी
कभी
हिमांशु Kulshrestha
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
पूर्वार्थ
फर्स्ट अप्रैल फूल पर एक कुंडली
फर्स्ट अप्रैल फूल पर एक कुंडली
Ram Krishan Rastogi
कौन ?
कौन ?
साहिल
“मृदुलता”
“मृदुलता”
DrLakshman Jha Parimal
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
Manisha Manjari
हासिल नहीं है कुछ
हासिल नहीं है कुछ
Dr fauzia Naseem shad
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
* बाल विवाह मुक्त भारत *
* बाल विवाह मुक्त भारत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटी को मत मारो 🙏
बेटी को मत मारो 🙏
Samar babu
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
Sonu sugandh
जाने कहाँ से उड़ती-उड़ती चिड़िया आ बैठी
जाने कहाँ से उड़ती-उड़ती चिड़िया आ बैठी
Shweta Soni
कोई भोली समझता है
कोई भोली समझता है
VINOD CHAUHAN
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
Sidhartha Mishra
💐प्रेम कौतुक-262💐
💐प्रेम कौतुक-262💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
Loading...