Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

“तेरा साथ है तो”

“तेरा साथ है तो”
तेरा साथ है तो
कुछ भी हो चाहे
पर जीत मेरी होगी,
तुझको अहसास है
तू ही मेरी शक्ति है
मेरी हर एक जीत
बस तेरी होगी।

1 Like · 1 Comment · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
ख़ुदा करे ये कयामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
ख़ुदा करे ये कयामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
शेखर सिंह
छोटी सी प्रेम कहानी
छोटी सी प्रेम कहानी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
gurudeenverma198
बेमेल कथन, फिजूल बात
बेमेल कथन, फिजूल बात
Dr MusafiR BaithA
46...22 22 22 22 22 22 2
46...22 22 22 22 22 22 2
sushil yadav
तू देख, मेरा कृष्णा आ गया!
तू देख, मेरा कृष्णा आ गया!
Bindesh kumar jha
रमेशराज के दो मुक्तक
रमेशराज के दो मुक्तक
कवि रमेशराज
हार जाती मैं
हार जाती मैं
Yogi B
दिल कि आवाज
दिल कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शिक्षा होने से खुद को  स्वतंत्र और पैसा होने से खुद को
शिक्षा होने से खुद को स्वतंत्र और पैसा होने से खुद को
पूर्वार्थ
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
Amulyaa Ratan
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
Shweta Soni
I don't need any more blush when I have you cuz you're the c
I don't need any more blush when I have you cuz you're the c
Sukoon
जग जननी है जीवनदायनी
जग जननी है जीवनदायनी
Buddha Prakash
🙅 अक़्ल के मारे🙅
🙅 अक़्ल के मारे🙅
*प्रणय प्रभात*
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
सुनता जा शरमाता जा - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
Vijay Nayak
जीवन से ओझल हुए,
जीवन से ओझल हुए,
sushil sarna
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
गुमनाम 'बाबा'
तलाश है।
तलाश है।
नेताम आर सी
2321.पूर्णिका
2321.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
"शुभचिन्तक"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...