Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

ठण्डी राख़ – दीपक नीलपदम्

जनता सहती सबकुछ चुपचाप,

जैसे शांत और ठण्डी राख़,

होम राष्ट्र-हित करती निज हित,

किन्तु रहा उसे सब विदित,

सदियों तक बहलाई तुमने

निज हित ली अंगड़ाई तुमने,

चार दिनों के चार खिलौने,

कई दशक दिखलाये तुमने,

कई भाग कर बाँटा तुमने,

हक़ की बात पर देदी डांट,

रहे मिटाते राष्ट्र की शाख ।

जनता दिनकर भी पढ़ती है,

अपढ़ रखा फिर भी पढ़ती है,

याद करो वो दिन आया था,

टूटा युवराजों राजों का घमण्ड,

रथ छोड़ उतर भागना पड़ा था,

सोच रहे थे जो कि

अब वो ही बस,

इस देश राष्ट्र के कर्णधार।

जनता जो ठण्डी राख़ थी,

छिपी हुई उसमें भी आग थी।

(c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव ” नील पदम् “

1 Like · 145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
Rj Anand Prajapati
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
अनिल "आदर्श"
समय यात्रा संभावना -एक विचार
समय यात्रा संभावना -एक विचार
Shyam Sundar Subramanian
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
Neeraj Mishra " नीर "
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दिल किसी से
दिल किसी से
Dr fauzia Naseem shad
तेरे मेरे बीच में
तेरे मेरे बीच में
नेताम आर सी
गर्मी
गर्मी
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
दुखों से दोस्ती कर लो,
दुखों से दोस्ती कर लो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अलसाई आँखे
अलसाई आँखे
A🇨🇭maanush
कलरव करते भोर में,
कलरव करते भोर में,
sushil sarna
इश्क
इश्क
SUNIL kumar
माफ करना, कुछ मत कहना
माफ करना, कुछ मत कहना
gurudeenverma198
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
भोर
भोर
Kanchan Khanna
"सियासत का सेंसेक्स"
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम सुधा
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
Acrostic Poem- Human Values
Acrostic Poem- Human Values
jayanth kaweeshwar
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दशमेश के ग्यारह वचन
दशमेश के ग्यारह वचन
Satish Srijan
2463.पूर्णिका
2463.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सुप्रभात गीत
सुप्रभात गीत
Ravi Ghayal
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
तुम्हें पाने के लिए
तुम्हें पाने के लिए
Surinder blackpen
राखी धागों का त्यौहार
राखी धागों का त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
जीव कहे अविनाशी
जीव कहे अविनाशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पवित्रता की प्रतिमूर्ति : सैनिक शिवराज बहादुर सक्सेना*
पवित्रता की प्रतिमूर्ति : सैनिक शिवराज बहादुर सक्सेना*
Ravi Prakash
Loading...