Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

जब दादा जी घर आते थे

सबके ह्रदय खिल‌ जाते थे
जब दादा जी घर आते थे–जब दादा जी
छाता लेकर घर से जाना
थैला लेकर घर में आना
हमें देखकर बस मुस्काते थे–जब दादा जी
कहते थे कल शहर है जाना
बोलो बच्चो क्या है लाना
खुश होकर हम बतलाते थे–जब दादा जी
मुंगफली गज्जक रेवड़ी लाते
जामुन आम खरबुजा लाते
साथ बैठकर सब खाते थे–जब दादा जी
दिन भर थके हारे जब आते
दादा जी के हम पैर दबाते
प्यार से वो सिर सहलाते थे–जब दादा जी
कहाॅ॑ ‘V9द’ बचपन की बातें
निस्वार्थ थे सब रिश्ते-नाते
भेद-भाव सभी मिट जाते थे–जब दादा जी

2 Likes · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
पद्धरि छंद ,अरिल्ल छंद , अड़िल्ल छंद विधान व उदाहरण
पद्धरि छंद ,अरिल्ल छंद , अड़िल्ल छंद विधान व उदाहरण
Subhash Singhai
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
♥️मां पापा ♥️
♥️मां पापा ♥️
Vandna thakur
लोकतंत्र का मंदिर
लोकतंत्र का मंदिर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
शेखर सिंह
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
■ समझदारों के लिए संकेत बहुत होता है। बशर्ते आप सच में समझदा
■ समझदारों के लिए संकेत बहुत होता है। बशर्ते आप सच में समझदा
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जवानी
जवानी
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
भजन
भजन
सुरेखा कादियान 'सृजना'
तू ही मेरी लाड़ली
तू ही मेरी लाड़ली
gurudeenverma198
बातें करते प्यार की,
बातें करते प्यार की,
sushil sarna
बदली-बदली सी तश्वीरें...
बदली-बदली सी तश्वीरें...
Dr Rajendra Singh kavi
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
Satish Srijan
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
Johnny Ahmed 'क़ैस'
पत्नी की प्रतिक्रिया
पत्नी की प्रतिक्रिया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
ईश्वर का रुप मां
ईश्वर का रुप मां
Keshi Gupta
*गीता - सार* (9 दोहे)
*गीता - सार* (9 दोहे)
Ravi Prakash
2455.पूर्णिका
2455.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चुनाव चालीसा
चुनाव चालीसा
विजय कुमार अग्रवाल
उलझनें
उलझनें
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
दोहा- अभियान
दोहा- अभियान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
तुम महकोगे सदा मेरी रूह के साथ,
तुम महकोगे सदा मेरी रूह के साथ,
Shyam Pandey
जीत के साथ
जीत के साथ
Dr fauzia Naseem shad
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
गुरु से बडा ना कोय🙏
गुरु से बडा ना कोय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अगर जाना था उसको
अगर जाना था उसको
कवि दीपक बवेजा
Loading...