Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 2 min read

कुत्ते का श्राद्ध

फतेह बहादुर नाम है मेरा
एस पी का हूँ बाबू ।
सारा आफिस मेरे अंडर,
साहब भी मेरे काबू।

जो मैं कहता वैसे करते,
रॉन्ग हो या राइट।
आय व्यय का लेखा सारा
रखता एकदम टाइट।

मेमसाब के भी ऊपर
थी पकड़ हमारी पूरी।
आज तलक साहब मैडम से
हुई कभी न दूरी।

साहब ने एक कुत्ता पाला,
था जो जान से प्यारा।
चपरासी से बड़े बाबू तक,
सबकी आँख का तारा।

एक दिन सब पर गाज गिर गयी।
गुलशन पूरा उजड़ गया। साहबजी का टामी कुत्ता ,
जाने कैसे गुजर गया।

सारे विलखें मार दहाड़े
दुखी हुये सब कोई।
टॉमी जिसमें वैकुंठ जाये,
करो जतन अब सोई।

भैया फत्ते यही समय है,
नम्बर खूब न बना लो।
साहेब के प्यारे कुत्ते का
जल्दी श्राद्ध कर दो।

मैडम साहब खुश हो जाये,
टॉमी की हो मुक्ति।
अपना प्रमोशन हो जाये,
है ये अव्वल युक्ति।

परमपूण्य प्रस्ताव ने मेरे,
साहब जी को रुला दिया।
आव न देखा ताव देखा,
शुक्लाजी को बुला लिया।

यूँ तो शुक्ला सिद्ध पुरुष जन।
आते थे सब काम।
लेकिन मुझ पर कुपित हो गए,
सुन के श्राद्ध का नाम

बोले मैं हूँ कुलीन ब्राह्मण,
करता मानुष का श्राद्ध।
कुत्तों का यूँ तर्पण करना,
है बिल्कुल अपराध।

एस पी साहब के भय कारण,
शुक्लाजी घबराय।
किया प्रयोग विप्र की बुद्धि ,
बाँचा अजब उपाय।

कुत्ता है भैरव का वाहन,
उनकी करिये पूजा।
मुक्ति टॉमी को मिल जाये,
यस उपाय न दूजा।

आइटम सारा नोट करो,
और जल्दी से मगवालो।
साहब के प्यारे टॉमी की
विधिवत श्राद्ध कर लो।

दस तोला सोने का कुत्ता,
तेरह लीटर दारू।
तेरह भैसें गोल सींग की ,
जो हो खूब दूधारू।

तेरह कम्बल, छब्बीस जूता,
स्वान वजन भर अन्न।
तेरह बिप्र को दान दक्षिणा
हों भैरव प्रसन्न।

पूजा लिस्ट देख कर साहब,
शुक्ला जी को भगा दिया।
फतह बहादुर सस्पेंट हो गए तुरंत लिस्ट को जला दिया।

पी ए बाबू पास खड़े थे,
साहब को समझाया।
वन में गहरा गड्ढा खोदा,
टॉमी को दफनाया।

चापलूस से बचके रहना,
रहिये इनसे दूर।
ये समाज के कुष्ट रोग है,
रखना याद जरूर।

Language: Hindi
60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
बुढ्ढे का सावन
बुढ्ढे का सावन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
2910.*पूर्णिका*
2910.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
परवाज़ की कोशिश
परवाज़ की कोशिश
Shekhar Chandra Mitra
"कवि और नेता"
Dr. Kishan tandon kranti
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
कवि रमेशराज
ऑफिसियल रिलेशन
ऑफिसियल रिलेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ लोग
कुछ लोग
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
कहो तो..........
कहो तो..........
Ghanshyam Poddar
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
किसी के दिल में चाह तो ,
किसी के दिल में चाह तो ,
Manju sagar
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
Babli Jha
दोस्त.............एक विश्वास
दोस्त.............एक विश्वास
Neeraj Agarwal
मेरी प्यारी कविता
मेरी प्यारी कविता
Ms.Ankit Halke jha
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
Dr fauzia Naseem shad
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
umesh mehra
" जब तुम्हें प्रेम हो जाएगा "
Aarti sirsat
तुम क्या जानो
तुम क्या जानो"
Satish Srijan
पहला प्यार
पहला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
सफलता मिलना कब पक्का हो जाता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
Sarfaraz Ahmed Aasee
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
ruby kumari
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
पूर्वार्थ
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
gurudeenverma198
"सत्ता व सियासत"
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...