Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

“इस पृथ्वी पर”

“इस पृथ्वी पर”
प्यार से अधिक
कोमल, सुन्दर, रेशमी
कुछ बचा नहीं
इस पृथ्वी पर
जीने के लिए,
हृदय के स्पन्दन में
गहराई तक
महसूस करने के लिए।

5 Likes · 4 Comments · 337 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
गर्म स्वेटर
गर्म स्वेटर
Awadhesh Singh
■ आई बात समझ में...?
■ आई बात समझ में...?
*Author प्रणय प्रभात*
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
अ'ज़ीम शायर उबैदुल्ला अलीम
Shyam Sundar Subramanian
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
इंजी. संजय श्रीवास्तव
राम मंदिर
राम मंदिर
Sanjay ' शून्य'
6
6
Davina Amar Thakral
जुदाई की शाम
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
? ,,,,,,,,?
? ,,,,,,,,?
शेखर सिंह
लिख देती है कवि की कलम
लिख देती है कवि की कलम
Seema gupta,Alwar
सब सूना सा हो जाता है
सब सूना सा हो जाता है
Satish Srijan
वर्षा रानी⛈️
वर्षा रानी⛈️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
Rj Anand Prajapati
सेज सजायी मीत की,
सेज सजायी मीत की,
sushil sarna
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
पूर्वार्थ
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अन्नदाता
अन्नदाता
Akash Yadav
" अब कोई नया काम कर लें "
DrLakshman Jha Parimal
बरसों की ज़िंदगी पर
बरसों की ज़िंदगी पर
Dr fauzia Naseem shad
राजाराम मोहन राॅय
राजाराम मोहन राॅय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
शिव ही बनाते हैं मधुमय जीवन
शिव ही बनाते हैं मधुमय जीवन
कवि रमेशराज
नज़र को नज़रिए की तलाश होती है,
नज़र को नज़रिए की तलाश होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*शुभ स्वतंत्रता दिवस हमारा (बाल कविता)*
*शुभ स्वतंत्रता दिवस हमारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शक्तिशाली
शक्तिशाली
Raju Gajbhiye
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
विद्रोही प्रेम
विद्रोही प्रेम
Rashmi Ranjan
2784. *पूर्णिका*
2784. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...