Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

इल्म़

कौन कब किसका हुआ है,
सबका अपना किया करा है,

जिसको अपना हमने कहा है,
वो भी गैरों का हुआ है,

साथ है तो वो भी पल भर का हुआ है,
ज़िंदगी भर कौन किसका हुआ है,

अकेले ही आए थे, अकेले ही जाना है,
कश्मकश भरी ये जिंदगी गुज़री,
देर से ये हमने पहचाना है,

अपनी खुशी को भूल,
दूसरों की खुशी को हमने अपनी ख़ुशी माना है,
पर दूसरों नेंअपनी खुशी में शामिल हमें,
बे-खु़द ही जाना है,
जब से हमें ये इल्म़ हुआ ,
हमने अपनी हस्ती को पहचाना है।

3 Likes · 92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
अकेलापन
अकेलापन
लक्ष्मी सिंह
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
शेखर सिंह
है हमारे दिन गिने इस धरा पे
है हमारे दिन गिने इस धरा पे
DrLakshman Jha Parimal
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
मां
मां
Sûrëkhâ
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पूर्वार्थ
राम राम राम
राम राम राम
Satyaveer vaishnav
शब्द
शब्द
Dr. Mahesh Kumawat
तीर'गी  तू  बता  रौशनी  कौन है ।
तीर'गी तू बता रौशनी कौन है ।
Neelam Sharma
*बाल गीत (मेरा प्यारा मीत )*
*बाल गीत (मेरा प्यारा मीत )*
Rituraj shivem verma
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2870.*पूर्णिका*
2870.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
#काव्यात्मक_व्यंग्य :--
#काव्यात्मक_व्यंग्य :--
*प्रणय प्रभात*
हार भी स्वीकार हो
हार भी स्वीकार हो
Dr fauzia Naseem shad
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Legal Quote
Legal Quote
GOVIND UIKEY
रो रो कर बोला एक पेड़
रो रो कर बोला एक पेड़
Buddha Prakash
फितरत
फितरत
Surya Barman
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
इंसानियत की लाश
इंसानियत की लाश
SURYA PRAKASH SHARMA
*दिल कहता है*
*दिल कहता है*
Kavita Chouhan
दादी की वह बोरसी
दादी की वह बोरसी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"गिरना, हारना नहीं है"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी में जो मिला सब, सिर्फ खोने के लिए(हिंदी गजल गीतिका)
जिंदगी में जो मिला सब, सिर्फ खोने के लिए(हिंदी गजल गीतिका)
Ravi Prakash
मुसलसल ईमान-
मुसलसल ईमान-
Bodhisatva kastooriya
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
shabina. Naaz
कौन हूँ मैं ?
कौन हूँ मैं ?
पूनम झा 'प्रथमा'
मन मेरा क्यों उदास है.....!
मन मेरा क्यों उदास है.....!
VEDANTA PATEL
Loading...