Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

इंसानियत का वजूद

झूठ का बोलबाला है ,
सच बोलने वाले का मुंह काला है ,

दर परत झूठ की परतों में सच्चाई को
छुपाया जाता है ,
बार-बार झूठ सुनने से सच सा ही
लगने लगता है ,

झूठ के पास दौलत और रसूख़ की
ताकत है ,
झूठ का साथ देने वालों के लिए सच बोलना
हिमाकत है ,

झूठ की आंधी के सामने सच
एक टिमटिमाता दिया है ,
सच्चाई का साथ देने वालों ने इसे कभी
बुझने ना दिया है ,

ये वो रोशनी है जो भटकों को सच्चाई की
राह दिखाती है ,
उन्हें कुफ़्र से बचाती है उनका
मुस्तक़बिल सँवारती है ,

जिस दिन झूठ की आंधी के ज़ोर से
सच का दिया बुझ जाएगा ,
समझो उस दिन इंसानियत का वजूद खत्म हो
हैव़ानियत का निज़ाम क़ायम हो जाएगा।

3 Likes · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
दिल का गुस्सा
दिल का गुस्सा
Madhu Shah
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
पूर्वार्थ
फिल्मी नशा संग नशे की फिल्म
फिल्मी नशा संग नशे की फिल्म
Sandeep Pande
मन
मन
Dr.Priya Soni Khare
मैं राम का दीवाना
मैं राम का दीवाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
श्वान संवाद
श्वान संवाद
Shyam Sundar Subramanian
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
श्री रामलला
श्री रामलला
Tarun Singh Pawar
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
Mahesh Tiwari 'Ayan'
*बताए मेरी गलती जो, उसे ईनाम देता हूँ (हिंदी गजल)*
*बताए मेरी गलती जो, उसे ईनाम देता हूँ (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
2962.*पूर्णिका*
2962.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
Otteri Selvakumar
मुर्दा समाज
मुर्दा समाज
Rekha Drolia
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
Neelam Sharma
ख़ास विपरीत परिस्थिति में सखा
ख़ास विपरीत परिस्थिति में सखा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
"रोशनी की जिद"
Dr. Kishan tandon kranti
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
Ranjeet kumar patre
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
gurudeenverma198
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कहानी-
कहानी- "खरीदी हुई औरत।" प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
किसी गैर के पल्लू से बंधी चवन्नी को सिक्का समझना मूर्खता होत
किसी गैर के पल्लू से बंधी चवन्नी को सिक्का समझना मूर्खता होत
विमला महरिया मौज
ग़ज़ल (यूँ ज़िन्दगी में आपके आने का शुक्रिया)
ग़ज़ल (यूँ ज़िन्दगी में आपके आने का शुक्रिया)
डॉक्टर रागिनी
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
कवि रमेशराज
चंद्रयान ३
चंद्रयान ३
प्रदीप कुमार गुप्ता
आ भी जाओ
आ भी जाओ
Surinder blackpen
*स्पंदन को वंदन*
*स्पंदन को वंदन*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...