Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

आ जा उज्ज्वल जीवन-प्रभात।

आ जा उज्ज्वल जीवन-प्रभात।

स्वर्णिम – किरणों के जाल लिए
आ बाल-अरुण निज भाल लिए,
हर ले अँधियारी, विकट – रात
आ जा उज्ज्वल जीवन -प्रभात।

खगवृन्द, ताल, तट मन्द पड़े
पथ रुद्ध, द्वार सब बन्द पड़े,
कर दूर तिमिर के असह घात
आ जा उज्ज्वल जीवन -प्रभात।

आ जा कि खिले अब सूर्यमुखी
कानन विहँसे, जग और सुखी,
डाली – डाली नव, हरित -पात
आ जा उज्ज्वल जीवन-प्रभात।

जीवन – सरिता जीना चाहे
आकंठ नीर पीना चाहे,
खेले लहरों के संग वात
आ जा उज्ज्वल जीवन -प्रभात।

अनिल मिश्र प्रहरी।

Language: Hindi
57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राखी की सौगंध
राखी की सौगंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
शेखर सिंह
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
हिटलर
हिटलर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कदम चुप चाप से आगे बढ़ते जाते है
कदम चुप चाप से आगे बढ़ते जाते है
Dr.Priya Soni Khare
मन डूब गया
मन डूब गया
Kshma Urmila
नवसंवत्सर 2080 कि ज्योतिषीय विवेचना
नवसंवत्सर 2080 कि ज्योतिषीय विवेचना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
आसमाँ के अनगिनत सितारों मे टिमटिमाना नहीं है मुझे,
आसमाँ के अनगिनत सितारों मे टिमटिमाना नहीं है मुझे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
"छछून्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
"आत्म-मन्थन"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मात्र नाम नहीं तुम
मात्र नाम नहीं तुम
Mamta Rani
हुनर
हुनर
अखिलेश 'अखिल'
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
“ कौन सुनेगा ?”
“ कौन सुनेगा ?”
DrLakshman Jha Parimal
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
Harminder Kaur
सोचा होगा
सोचा होगा
संजय कुमार संजू
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
*Author प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
Santosh Soni
पहले की भारतीय सेना
पहले की भारतीय सेना
Satish Srijan
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
*मतलब इस संसार का, समझो एक सराय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन
पूर्वार्थ
Loading...