Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

*आत्म-मंथन*

आत्म-मंथन

भावुकता की चादर ओढ़,
मूक नहीं होना होगा।

अंधकार लिप्त आवरण फेंक,
निरंतर अग्रसर होना होगा।

संकल्प अटल करना होगा,
स्वर्णिम पथ पर बढ़ना होगा।

ऐसे पथ भी आएंगे,
जब कदम तेरे डगमगाएंगे।

मन में कौतूहल होगा,
हृदय भी विचलित होगा।

परंतु तुझे ऐ मेरे प्रिय-
वर्चस्व को बढ़ाकर,

अग्रिम पथ पर बढ़ाना होगा,
निरंतर प्रयत्न करना होगा।

यह तू मत सोच प्रिये,
इस समाज के होठों पर,
बातें क्या उजागर होंगी?

क्या लोगों के हृदयों में,
पहचान तेरी बस शून्य होगी?

अब तुझे यह निर्णय करना होगा,
अग्रिम पथ पर बढ़ाना होगा।

शून्य मात्र एक शून्य नहीं।
शून्यों से मिलकर अनगिनत बने।।

अतः तुझे ए मेरे प्रिय,
अगणित शून्य बनना होगा।

ऊपर बैठे उस ईश्वर को,
मूक रूदन सुनना होगा।

ऐसे ही वह हस्तियां नहीं।
जो आकाशों को छूती हैं,

जिनकी प्रतिभा से अब तक,
कई प्राण अछूते हैं।

ऐ प्रिय तुझे भी वैसे ही,
आत्म मंथन करना होगा।

आगे बढ़ते रहना होगा।
निरंतर प्रयत्न करना होगा।

ऐसे ही कुछ पुष्प नहीं जो,
नित ईश्वर के चरणों में,
अर्पित हो जाते हैं।

कठिन परिश्रम के पश्चात प्रिये,
वो श्रेष्ठ पद पा जाते हैं।

इसी प्रकार हे मेरे प्रिय,
परिश्रम से इस जीवन को,
अप्रतिम सरस करना होगा।

निरंतर प्रयत्न करना होगा।
स्वर्णिम पथ पर बढ़ाना होगा।।

डॉ प्रिया
अयोध्या।

Language: Hindi
1 Like · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
कृष्णकांत गुर्जर
..
..
*प्रणय प्रभात*
नई शुरुआत
नई शुरुआत
Neeraj Agarwal
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
*Keep Going*
*Keep Going*
Poonam Matia
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
AMRESH KUMAR VERMA
ख़ुद से ख़ुद को
ख़ुद से ख़ुद को
Akash Yadav
आक्रोष
आक्रोष
Aman Sinha
Yashmehra
Yashmehra
Yash mehra
2557.पूर्णिका
2557.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
#संवाद (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
Dr MusafiR BaithA
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
Atul "Krishn"
"चाँद-तारे"
Dr. Kishan tandon kranti
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
बाजार में जरूर रहते हैं साहब,
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
विश्व वरिष्ठ दिवस
विश्व वरिष्ठ दिवस
Ram Krishan Rastogi
सज गई अयोध्या
सज गई अयोध्या
Kumud Srivastava
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शुभकामना संदेश.....
शुभकामना संदेश.....
Awadhesh Kumar Singh
खुशियां
खुशियां
N manglam
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सब कुछ बदल गया,
सब कुछ बदल गया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सबका नपा-तुला है जीवन, सिर्फ नौकरी प्यारी( मुक्तक )
सबका नपा-तुला है जीवन, सिर्फ नौकरी प्यारी( मुक्तक )
Ravi Prakash
मेरी गोद में सो जाओ
मेरी गोद में सो जाओ
Buddha Prakash
सफलता
सफलता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नवरात्रि का छठा दिन मां दुर्गा की छठी शक्ति मां कात्यायनी को
नवरात्रि का छठा दिन मां दुर्गा की छठी शक्ति मां कात्यायनी को
Shashi kala vyas
जय हनुमान
जय हनुमान
Santosh Shrivastava
Loading...