Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

“अगर”

“अगर”
अकेलापन
फटक नहीं सकता
अगर हुनर हों साथ में,
और
कलम हों हाथ में।

11 Likes · 7 Comments · 253 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
जीवन है मेरा
जीवन है मेरा
Dr fauzia Naseem shad
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूर्वार्थ
अभिनंदन डॉक्टर (कुंडलिया)
अभिनंदन डॉक्टर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मां सुमन.. प्रिय पापा.👨‍👩‍👦‍👦.
मां सुमन.. प्रिय पापा.👨‍👩‍👦‍👦.
Ms.Ankit Halke jha
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
लक्ष्मी सिंह
पहले प्यार में
पहले प्यार में
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
जवानी
जवानी
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
"रात यूं नहीं बड़ी है"
ज़ैद बलियावी
"चापलूसी"
Dr. Kishan tandon kranti
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
ज़िंदगी एक पहेली...
ज़िंदगी एक पहेली...
Srishty Bansal
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
भारत की दुर्दशा
भारत की दुर्दशा
Shekhar Chandra Mitra
मुक्तक
मुक्तक
Mahender Singh
भूल जा वह जो कल किया
भूल जा वह जो कल किया
gurudeenverma198
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Struggle to conserve natural resources
Struggle to conserve natural resources
Desert fellow Rakesh
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
मुझसे  नज़रें  मिलाओगे  क्या ।
मुझसे नज़रें मिलाओगे क्या ।
Shah Alam Hindustani
भुक्त - भोगी
भुक्त - भोगी
Ramswaroop Dinkar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बह रही थी जो हवा
बह रही थी जो हवा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
सफलता का एक ही राज ईमानदारी, मेहनत और करो प्रयास
Ashish shukla
अमृत वचन
अमृत वचन
Dp Gangwar
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
तन्हाई
तन्हाई
Rajni kapoor
चाँद बहुत अच्छा है तू!
चाँद बहुत अच्छा है तू!
Satish Srijan
((((((  (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
(((((( (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
Rituraj shivem verma
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagawan Roy
Loading...