Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (गज़ब हैं रंग जीबन के)

ग़ज़ल (गज़ब हैं रंग जीबन के)

गज़ब हैं रंग जीबन के गजब किस्से लगा करते
जबानी जब कदम चूमे बचपन छूट जाता है

बंगला ,कार, ओहदे को पाने के ही चक्कर में
सीधा सच्चा बच्चों का आचरण छूट जाता है

जबानी के नशें में लोग क्या क्या ना किया करते
ढलते ही जबानी के बुढ़ापा टूट जाता है

समय के साथ बहना ही असल तो यार जीबन है
समय को गर नहीं समझे समय फिर रूठ जाता है

जियो ऐसे कि औरों को भी जीने का मजा आये
मदन ,जीबन क्या ,बुलबुला है, आखिर फुट जाता है

ग़ज़ल (गज़ब हैं रंग जीबन के)

मदन मोहन सक्सेना

284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" मिलन की चाह "
DrLakshman Jha Parimal
नहीं आया कोई काम मेरे
नहीं आया कोई काम मेरे
gurudeenverma198
*दिल कहता है*
*दिल कहता है*
Kavita Chouhan
बेटी को मत मारो 🙏
बेटी को मत मारो 🙏
Samar babu
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
नूरफातिमा खातून नूरी
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
शेखर सिंह
आग से जल कर
आग से जल कर
हिमांशु Kulshrestha
गलती अगर किए नहीं,
गलती अगर किए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खालीपन
खालीपन
करन ''केसरा''
माँ
माँ
Harminder Kaur
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
Keshav kishor Kumar
है बुद्ध कहाँ हो लौट आओ
है बुद्ध कहाँ हो लौट आओ
VINOD CHAUHAN
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
"सोच"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
Sanjay ' शून्य'
जो हुआ वो गुज़रा कल था
जो हुआ वो गुज़रा कल था
Atul "Krishn"
लिखते हैं कई बार
लिखते हैं कई बार
Shweta Soni
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
श्री पारसदास जैन खंडेलवाल
श्री पारसदास जैन खंडेलवाल
Ravi Prakash
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
ruby kumari
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Dr Parveen Thakur
कठिनाई  को पार करते,
कठिनाई को पार करते,
manisha
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
कृष्णकांत गुर्जर
2364.पूर्णिका
2364.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Attraction
Attraction
Vedha Singh
गुजरा वक्त।
गुजरा वक्त।
Taj Mohammad
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
Loading...