Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल- कौन दिल की आवाज सुनता है

ग़ज़ल- कौन दिल की आवाज सुनता है
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
पैसे की ही वो आज सुनता है
कौन दिल की आवाज सुनता है
°°°
जिसने लोगों में डर किया पैदा
बातें उसकी समाज सुनता है
°°°
जो भी दिल से करे अदा यारों
रब तो उसकी नमाज सुनता है
°°°
ये तो जनता है इसकी आहों को
कब कहाँ पर ये ताज सुनता है
°°°
मेरा दिल तो महज तेरे दिल का
जब भी बजता है साज सुनता है
°°°
आज ”आकाश” दिल की कह तो दूं
पर तू हो के नाराज सुनता है

– आकाश महेशपुरी

615 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आकाश महेशपुरी
View all
You may also like:
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
Er.Navaneet R Shandily
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
VEDANTA PATEL
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
भय भव भंजक
भय भव भंजक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2930.*पूर्णिका*
2930.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
औकात
औकात
साहित्य गौरव
"कभी-कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
उसकी गली से गुजरा तो वो हर लम्हा याद आया
शिव प्रताप लोधी
रावण की हार .....
रावण की हार .....
Harminder Kaur
श्रृंगारिक दोहे
श्रृंगारिक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
काश
काश
हिमांशु Kulshrestha
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
कवि दीपक बवेजा
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
बुद्ध भगवन्
बुद्ध भगवन्
Buddha Prakash
*सदा खामोश होता है (मुक्तक)*
*सदा खामोश होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पल
पल
Sangeeta Beniwal
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन
स्पेशल अंदाज में बर्थ डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो तीर ए नजर दिल को लगी
वो तीर ए नजर दिल को लगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
लवकुश यादव "अज़ल"
कितना तन्हा खुद को
कितना तन्हा खुद को
Dr fauzia Naseem shad
ख़त आया तो यूँ लगता था,
ख़त आया तो यूँ लगता था,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ कटाक्ष
■ कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
निदामत का एक आँसू ......
निदामत का एक आँसू ......
shabina. Naaz
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
एक इंतज़ार दीजिए नई गज़ल विनीत सिंह शायर के कलम से
एक इंतज़ार दीजिए नई गज़ल विनीत सिंह शायर के कलम से
Vinit kumar
उनके ही नाम
उनके ही नाम
Bodhisatva kastooriya
गौरवपूर्ण पापबोध
गौरवपूर्ण पापबोध
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
" नेतृत्व के लिए उम्र बड़ी नहीं, बल्कि सोच बड़ी होनी चाहिए"
नेताम आर सी
Loading...