Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Oct 2023 · 2 min read

स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती

स्वर्गस्थ रूह सपनें में कह
वारिश को याद दिलाती है
********************
शिक्षा दीक्षा दिया यतन से
कड़ी मेहनत मजदूरी कर

पाला पोषा बड़ी जिम्मेंदारी
से सूखी रोटी दो जून खाकर

लिए सहारा उपवासों का
गरीबी अभाव मजबूरी का

जीवन तन बिता कष्टों में
सपना देख अफ़सर कुर्सी

कष्ट कंटो रह माँ ने अमृत
पिला नव संसार दिखाया

परिश्रम में निज सुख त्याग
तेरी उड़ान को पंख दिया है

चलते वक्त दोनो कह गए
बेटा निज चार धाम है मेरा

बेटी प्रेम करुणा की सागर
बड़े यतन निज बगिया में

रंगीन सुमन उगा सजाया
हँसता जीवन वैभव इनका

शिक्षा संस्कार पथ निर्देशक
देश गर्व अभिमान हो बेटा

परमात्मा ने मेरी सुनी पुकार
छोटा बड़ा आसन सम्मान दे

धर्म कर्म त्याग का मान बढ़ाया
वर्ष गुज़ार रहें दोनों स्वर्गवासी

देख तुम्हें परलोक में दुःखी
दम्भभरी बात पकड़ नादानी

जिस मांटी जन्म लिया खेल कूद
पढ़ लिख कुर्सी कठिनाई से पाया

पर घमण्डी बना अतीत विस्मृत हो
चकाचौंध दुनियां के दिखावे होड़

भूल गया त्याग तपस्या माटी का
क्या सोच पुरखोंने कष्ट उठाया

मेरी धरती मेरी खेतों की माटी
कनक पनीरी दलहन की फूलें

झोंके पवन दिशाएं कोस रहें
किन औलादों हाथ छोड़ गए

पद घमण्डी वैभव संपदा अंधी
ना कर्म किया ना बांट दिया मुझे

टुकड़े सही था किसी के अंश
आकर शोभा श्रृंगार उपज से

जीवन शैली समृद्ध बनाता
कण कण मेरी माटी दुःख दर्द

सहारा बन सकून गौरव पाता
औरों हाथों की कठ पुतली बन

कलेजा कट कट गिर रहा आज
अपनो के आने को निहार रहा

स्पर्श करो निज जन्म माटी को
अनुभव होगा पुरखों की श्रम

पसीना रक्त हृदय का धड़कन
महशूस करो दर्द बेज़ुवा रुह का

माँ माटी ने कितनी बार बुलाया
सविनय आमंत्रण से कह रही

बांट खण्डित कर सौंप दे मुझे
आया बैठा समझ नहीं पाया

ये इसने वो उसने बात कही है
औरत सी उलझन बेतुक मुद्दा

बड़ा छोटा यह वह मैं तू हो क्या
धमकी अहंकारी चमक दिखा

इसने उसने मैं तू की भंवर चक्रवात
गुमनाम छिपा ऊषा लालीआंचल में

छोड़ रहे तरकश के तीर जहरीले
छलनी हो रहे हैं बचपन अनोखे

वाणी तानों से कुछ नहीं मिला है
ताना-बाना छोड़ कबीरा चल बसे

छोड़ बड़ी यतन से झीनी झीनी बीनी
चदरिया चुभन पीड़ा से भरी नगरिया

मानव तन मिला चौरासी लाख यतन से
मैली मत कर जीवन मन निर्मल ड़गरिया

जिम्मेदारी से कितना दूर भागोगे
मेरी स्वर्ग समाधि पर सूखी फूल

कब तक बरसाओगे क्या ? तृप्त
हो जाऊंगा सुगंधहीन इन पुष्पों से

चंचल दम्भी स्थिर करों मन को
जग की रीत प्रीत समझ शीतल हो

दुनियादारी मत भूलजबावदेहीसे
ऋण चुका छोड़ यहीं सब एकदिन

अनजान दुनियां में जाना होगा
समझ सोच विचार करो मन में

संपदा वैभव नश्वर आनी जानी है
सत्य न्याय त्याग अमर पहचान
बनती इक प्रेरणा जगजीवन में ।
******************
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
"आधी है चन्द्रमा रात आधी "
Pushpraj Anant
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया हमने
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया हमने
Dr Archana Gupta
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
छू लेगा बुलंदी को तेरा वजूद अगर तुझमे जिंदा है
छू लेगा बुलंदी को तेरा वजूद अगर तुझमे जिंदा है
'अशांत' शेखर
त्रिया चरित्र
त्रिया चरित्र
Rakesh Bahanwal
रास्ता दुर्गम राह कंटीली, कहीं शुष्क, कहीं गीली गीली
रास्ता दुर्गम राह कंटीली, कहीं शुष्क, कहीं गीली गीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या सत्य है ?
क्या सत्य है ?
Buddha Prakash
23/82.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/82.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बदलता चेहरा
बदलता चेहरा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा 🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
Anil chobisa
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
Ravi Prakash
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम
प्रेम
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
"वक्त के पाँव"
Dr. Kishan tandon kranti
तारे दिन में भी चमकते है।
तारे दिन में भी चमकते है।
Rj Anand Prajapati
रोशन
रोशन
अंजनीत निज्जर
Ahsas tujhe bhi hai
Ahsas tujhe bhi hai
Sakshi Tripathi
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
स्वयं अपने चित्रकार बनो
स्वयं अपने चित्रकार बनो
Ritu Asooja
✍️दोस्ती ✍️
✍️दोस्ती ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तृष्णा के अम्बर यहाँ,
तृष्णा के अम्बर यहाँ,
sushil sarna
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
नया साल
नया साल
Arvina
बहुत ख्वाब देखता हूँ मैं
बहुत ख्वाब देखता हूँ मैं
gurudeenverma198
Loading...