Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

सोई गहरी नींदों में

सोई गहरी नींदों में, उठ जाती हूं मैं
देख कर तुमको ख्वाबों में, तड़प जाती हूं मैं
वही चेहरा वही आवाज़, वही चाह
क्यों रुलाते हो मुझे , मुझे क्यों तुम्हारी ही याद आती है
सोचती हूं जब भी खुदके बारे में
तुम जज़्बातों को घेर लेते हो
छूकर मेरी सांसों को, मेरी तन्हाई को छलते हो तुम
और कभी–कभी अपने होने का सबूत देते हो तुम
मुझे यादों से मुक्त करो, मुझे ख्वाबों के मुक्त करो
थक गई हूं मैं,
सोई गहरी नींदों में, उठ जाती हूं मैं
देख कर तुमको ख्वाबों में, तड़प जाती हूं मैं।

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चलना हमारा काम है
चलना हमारा काम है
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
भारत ने रचा इतिहास।
भारत ने रचा इतिहास।
Anil Mishra Prahari
*पीला भी लो मिल गया, तरबूजों का रंग (कुंडलिया)*
*पीला भी लो मिल गया, तरबूजों का रंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
Dr. ADITYA BHARTI
महिला दिवस विशेष दोहे
महिला दिवस विशेष दोहे
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
उम्र थका नही सकती,
उम्र थका नही सकती,
Yogendra Chaturwedi
अबला नारी
अबला नारी
Neeraj Agarwal
माँ काली
माँ काली
Sidhartha Mishra
मांँ
मांँ
Neelam Sharma
"आम"
Dr. Kishan tandon kranti
सच समाज में प्रवासी है
सच समाज में प्रवासी है
Dr MusafiR BaithA
वो ऊनी मफलर
वो ऊनी मफलर
Atul "Krishn"
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
Kshma Urmila
छंद -रामभद्र छंद
छंद -रामभद्र छंद
Sushila joshi
Rap song (3)
Rap song (3)
Nishant prakhar
ऐ मौत
ऐ मौत
Ashwani Kumar Jaiswal
" फेसबूक फ़्रेंड्स "
DrLakshman Jha Parimal
मन की बात
मन की बात
पूर्वार्थ
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
भगवन नाम
भगवन नाम
लक्ष्मी सिंह
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
दिल कहता है खुशियाँ बांटो
Harminder Kaur
कविता -नैराश्य और मैं
कविता -नैराश्य और मैं
Dr Tabassum Jahan
प्यासी कली
प्यासी कली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सर्द हवाओं का मौसम
सर्द हवाओं का मौसम
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Midnight success
Midnight success
Bidyadhar Mantry
*समझौता*
*समझौता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#अबोध_जिज्ञासा
#अबोध_जिज्ञासा
*Author प्रणय प्रभात*
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
Loading...