Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2020 · 1 min read

सुख दुःख मिलके उठाने के लिए होते हैं

सुख दुःख सारे मिल के उठाने के लिए होते हैं
सब राज़ दोस्तों को बताने के लिए होते हैं

हमने देखा है कि मोहब्बतें भी बाँटते हैं जाम
ऐसा नही कि सिर्फ़ पीने पिलाने के लिए होते

लोग करते हैं वादे दिल की तसल्ली के लिए
हम तो सोचते थे कि ये निभाने के लिए होते हैं

दिन का एहसास दिलाने के लिए होता है सूरज
और ये चाँद-तारे रात सजाने के लिए होते हैं

तसव्वुर में छुपी होती है ख़्वाहिशें दिल की
ख़्वाब नींद के साथ टूट जाने के लिए होते हैं

रूपये- पैसे से इंसान भी ख़रीदे जाने लगे ‘अर्श’
हमने सुना था ये खर्चा चलाने के लिए होते हैं

1 Like · 4 Comments · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भावुक हृदय
भावुक हृदय
Dr. Upasana Pandey
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
मां ने भेज है मामा के लिए प्यार भरा तोहफ़ा 🥰🥰🥰 �
Swara Kumari arya
23/186.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/186.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब बदला किस किस से लू जनाब
अब बदला किस किस से लू जनाब
Umender kumar
हम कितने आजाद
हम कितने आजाद
लक्ष्मी सिंह
संबंध अगर ह्रदय से हो
संबंध अगर ह्रदय से हो
शेखर सिंह
आइए मोड़ें समय की धार को
आइए मोड़ें समय की धार को
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
🙅सियासी सोनोग्राफी🙅
🙅सियासी सोनोग्राफी🙅
*प्रणय प्रभात*
दुनियाभर में घट रही,
दुनियाभर में घट रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
बुद्ध के बदले युद्ध
बुद्ध के बदले युद्ध
Shekhar Chandra Mitra
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
Saraswati Bajpai
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
SUNIL kumar
میرے اس دل میں ۔
میرے اس دل میں ۔
Dr fauzia Naseem shad
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
Ranjeet kumar patre
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
मेरे चेहरे से ना लगा मेरी उम्र का तकाज़ा,
मेरे चेहरे से ना लगा मेरी उम्र का तकाज़ा,
Ravi Betulwala
"श्यामपट"
Dr. Kishan tandon kranti
सपना
सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
तेरी पनाह.....!
तेरी पनाह.....!
VEDANTA PATEL
"" *एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य* "" ( *वसुधैव कुटुंबकम्* )
सुनीलानंद महंत
* मुझे क्या ? *
* मुझे क्या ? *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मायका
मायका
Mukesh Kumar Sonkar
*मरण सुनिश्चित सच है सबका, कैसा शोक मनाना (गीत)*
*मरण सुनिश्चित सच है सबका, कैसा शोक मनाना (गीत)*
Ravi Prakash
बदलने लगते है लोगो के हाव भाव जब।
बदलने लगते है लोगो के हाव भाव जब।
Rj Anand Prajapati
बंसत पचंमी
बंसत पचंमी
Ritu Asooja
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
Loading...