Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 1 min read

सात जन्मों तक

लीजा अपने मदर-फादर के साथ एक वर्ष का वीजा लेकर भारत भ्रमण पर आई। भारत में ही एक लड़के से उसकी दोस्ती हुई फिर वह दोस्ती प्रेम की राह पर चलते हुए शीघ्र मैरिज करने तक जा पहुँची।

शादी मण्डप सजाए गए। वैवाहिक रीति-रिवाजों एवं पवित्र मंत्रों का अर्थ लीजा एवं उनके माता-पिता को समझाने के लिए दुभाषिये लगाए गए। फिर अग्नि को साक्षी मानकर सात फेरे लिए गए। सात जन्मों तक साथ निभाने की शपथ दिलाई गई।

जब दुभाषिये ने लीजा को सात जन्मों तक साथ-साथ रहने की बात बताई कि – सेम हसबैंड इन सेवन मोर बर्थस टू कम” तो लीजा एकदम विचलित हो गई। वह बोल पड़ी- व्हाट? नो,,,नो। वह अंग्रेजी में धारा प्रवाह बोलती गई, जिसका अर्थ था- सात जन्मों तक क्या? मैं तो इस जन्म में आखिरी तक तुम्हारे साथ नहीं रह पाऊंगी।

मेरी प्रकाशित लघुकथा संग्रह :
मन की ऑंखें (दलहा, भाग-1) से,,,।
लघुकथाएँ ‘दलहा 1 से 7 भाग’ में संकलित हैं।

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
भारत भूषण सम्मान प्राप्त
हरफनमौला साहित्य लेखक।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
"न्यायालय"
Dr. Kishan tandon kranti
If you have someone who genuinely cares about you, respects
If you have someone who genuinely cares about you, respects
पूर्वार्थ
■ जय ब्रह्मांड 😊😊😊
■ जय ब्रह्मांड 😊😊😊
*प्रणय प्रभात*
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम "नवल" हरदम ।
शेखर सिंह
एक बछड़े को देखकर
एक बछड़े को देखकर
Punam Pande
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तू इतनी खूबसूरत है...
तू इतनी खूबसूरत है...
आकाश महेशपुरी
वोट कर!
वोट कर!
Neelam Sharma
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
राख देख  शमशान  में, मनवा  करे सवाल।
राख देख शमशान में, मनवा करे सवाल।
गुमनाम 'बाबा'
बेटियां।
बेटियां।
Taj Mohammad
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
निःस्वार्थ रूप से पोषित करने वाली हर शक्ति, मांशक्ति स्वरूपा
Sanjay ' शून्य'
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
*
*"राम नाम रूपी नवरत्न माला स्तुति"
Shashi kala vyas
हो जाती है साँझ
हो जाती है साँझ
sushil sarna
कोई नही है अंजान
कोई नही है अंजान
Basant Bhagawan Roy
प्रकृति
प्रकृति
नवीन जोशी 'नवल'
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
प्रेम दिवानी
प्रेम दिवानी
Pratibha Pandey
करूणा का अंत
करूणा का अंत
Sonam Puneet Dubey
हर इंसान लगाता दांव
हर इंसान लगाता दांव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )*
*दो-चार दिन की जिंदगी में, प्यार होना चाहिए (गीत )*
Ravi Prakash
सिद्धत थी कि ,
सिद्धत थी कि ,
ज्योति
*मधु मालती*
*मधु मालती*
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
अंततः कब तक ?
अंततः कब तक ?
Dr. Upasana Pandey
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
Ankita Patel
*आत्महत्या*
*आत्महत्या*
आकांक्षा राय
Loading...