Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2018 · 1 min read

सरसी/सुमंदर या कबीर छंद की परिभाषा व रचनाक्रम: इंजी. अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

सरसी/सुमंदर या कबीर छंद
(चार चरण, प्रत्येक में १६-११ मात्रा अर्थात १६ पर यति, चरणान्त में गुरु-लघु)

‘सरसी’ छंद लगे अति सुंदर, नाम ‘सुमंदर’ धीर .
नाक्षत्रिक मात्रा सत्ताइस , उत्तम गेय ‘कबीर’..
विषम चरण प्रतिबन्ध न कोई, गुरु-लघु अंतहिं जान.
चार चरण यति सोलह ग्यारह, ‘अम्बर’ देते मान..

–इं० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

सरसी : स्त्री० [सं०] एक प्रकार का मात्रिक छंद जिसके प्रत्येक चरण में २७ मात्राएँ (१६वीं मात्रा पर यति) और अंत में गुरु और लघु होते हैं। इसे सुमंदर भी कहते हैं। होली के दिनों में गाया जानेवाला कबीर प्रायः इसी छंद में होता है। (यह शब्द केवल स्थानिक रूप में प्रयुक्त हुआ है)स्त्री० [हिं० सरस] वह जमीन जिसमें सरसता या नमी हो।

Language: Hindi
470 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Tum hame  nist-ee nabut  kardo,
Tum hame nist-ee nabut kardo,
Sakshi Tripathi
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
Shweta Soni
दिल के कोने में
दिल के कोने में
Surinder blackpen
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
कृष्णकांत गुर्जर
सूरज को ले आता कौन?
सूरज को ले आता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
दम उलझता है
दम उलझता है
Dr fauzia Naseem shad
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
आजादी का
आजादी का "अमृत महोत्सव"
राकेश चौरसिया
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
जगदीश लववंशी
अधूरा ज्ञान
अधूरा ज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कवि दीपक बवेजा
गीतिका।
गीतिका।
Pankaj sharma Tarun
2346.पूर्णिका
2346.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एक बालक की अभिलाषा
एक बालक की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
राधा
राधा
Mamta Rani
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
vah kaun hai?
vah kaun hai?
ASHISH KUMAR SINGH
पुरुष_विशेष
पुरुष_विशेष
पूर्वार्थ
Jeevan ka saar
Jeevan ka saar
Tushar Jagawat
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
नूरफातिमा खातून नूरी
💐प्रेम कौतुक-279💐
💐प्रेम कौतुक-279💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमको अब पढ़ने स्कूल जाना है
हमको अब पढ़ने स्कूल जाना है
gurudeenverma198
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
Taj Mohammad
मेरा तितलियों से डरना
मेरा तितलियों से डरना
ruby kumari
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
*कुछ गुणा है कुछ घटाना, और थोड़ा जोड़ है (हिंदी गजल/ग
*कुछ गुणा है कुछ घटाना, और थोड़ा जोड़ है (हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...