Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 1 min read

सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न

सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से निपटना।

ये हरी घास में छुपे विषैले साँप की तरह होते हैं।

209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
झूठ भी कितना अजीब है,
झूठ भी कितना अजीब है,
नेताम आर सी
Khamoshi bhi apni juban rakhti h
Khamoshi bhi apni juban rakhti h
Sakshi Tripathi
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
VINOD CHAUHAN
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
रात
रात
SHAMA PARVEEN
"अद्भुत हिंदुस्तान"
Dr Meenu Poonia
कुटिल  (कुंडलिया)
कुटिल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जिंदगी
जिंदगी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Aruna Dogra Sharma
एक दिन
एक दिन
Ranjana Verma
2643.पूर्णिका
2643.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
मुझे तुमसे प्यार हो गया,
Dr. Man Mohan Krishna
मेरी कहानी मेरी जुबानी
मेरी कहानी मेरी जुबानी
Vandna Thakur
*सवाल*
*सवाल*
Naushaba Suriya
मुझे महसूस हो जाते
मुझे महसूस हो जाते
Dr fauzia Naseem shad
चाँद तारे गवाह है मेरे
चाँद तारे गवाह है मेरे
shabina. Naaz
"योगी-योगी"
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-521💐
💐प्रेम कौतुक-521💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आपकी हूँ और न पर
आपकी हूँ और न पर
Buddha Prakash
परिपक्वता (maturity) को मापने के लिए उम्र का पैमाना (scale)
परिपक्वता (maturity) को मापने के लिए उम्र का पैमाना (scale)
Seema Verma
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पगली
पगली
Kanchan Khanna
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
हृदय को भी पीड़ा न पहुंचे किसी के
हृदय को भी पीड़ा न पहुंचे किसी के
Er. Sanjay Shrivastava
जीवन एक संघर्ष
जीवन एक संघर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
"भूल गए हम"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुक्तामणि, मुक्तामुक्तक
मुक्तामणि, मुक्तामुक्तक
muktatripathi75@yahoo.com
Loading...