Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

“सफलता”

“सफलता”
इक आह हूँ
सबकी चाह हूँ
एक हसीन राह हूँ
जमाने में वाह वाह हूँ
बन जाती विकलता हूँ
जी हाँ, मैं सफलता हूँ।

1 Like · 1 Comment · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
23/44.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/44.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Sakshi Tripathi
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
Phool gufran
मेरा भारत देश
मेरा भारत देश
Shriyansh Gupta
कुछ कहमुकरियाँ....
कुछ कहमुकरियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
Shashi kala vyas
फेसबूक में  लेख ,कविता ,कहानियाँ और संस्मरण संक्षिप्त ,सरल औ
फेसबूक में लेख ,कविता ,कहानियाँ और संस्मरण संक्षिप्त ,सरल औ
DrLakshman Jha Parimal
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गुलाम
गुलाम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
खामोश
खामोश
Kanchan Khanna
आजादी की चाहत
आजादी की चाहत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जब जब भूलने का दिखावा किया,
जब जब भूलने का दिखावा किया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
Suryakant Dwivedi
आओ सजन प्यारे
आओ सजन प्यारे
Pratibha Pandey
"असली-नकली"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ पल अपने लिए
कुछ पल अपने लिए
Mukesh Kumar Sonkar
"Looking up at the stars, I know quite well
पूर्वार्थ
खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे
खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे
gurudeenverma198
*जय सियाराम राम राम राम...*
*जय सियाराम राम राम राम...*
Harminder Kaur
श्रमिक दिवस
श्रमिक दिवस
Bodhisatva kastooriya
"ଜୀବନ ସାର୍ଥକ କରିବା ପାଇଁ ସ୍ୱାଭାବିକ ହାର୍ଦିକ ସଂଘର୍ଷ ଅନିବାର୍ଯ।"
Sidhartha Mishra
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
हावी दिलो-दिमाग़ पर, आज अनेकों रोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ की अभिलाषा 🙏
माँ की अभिलाषा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुझे उस पार उतर जाने की जल्दी ही कुछ ऐसी थी
मुझे उस पार उतर जाने की जल्दी ही कुछ ऐसी थी
शेखर सिंह
जो महा-मनीषी मुझे
जो महा-मनीषी मुझे
*Author प्रणय प्रभात*
त्याग
त्याग
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...