Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

सपने

सपने तो सपने कभी
होते अपने कभी रह जाते सपने
सपने स्वंत्रत अन्तर्मन आकाश
विचरण करते।।
कल्पना यथार्त से परे
आविष्कार याथार्त इच्छा
परीक्षा पुरस्कार सपने सपनों
की आधारशिला नही यूं ही
काले अंधेरों में उभरी प्रतिबिंब
जैसे।।
प्रेम मनोकामना बैभव
चमत्कार का स्वागत सत्कार
सपने आत्मा मन मंथन के
रत्न सतरंगी सपने।।
निराकार की साकार धारणा
अवधारणा धरातल के बुल बुले
सतरंगी सपने।।
सत्य आस्था मिथ्या आकांक्षा
अवधारणा अस्तित्व होते ही
सपने आयु अवसर पल प्रहर
नही सपनो का छन भाँगुर सपने।।
स्मृति आकार नही स्पष्ट चामकदार
नही संसय,सत्यार्थ नही सपने
अतृतप्त अंतर्मन अविनि का
पराक्रम प्रबाह सपने।।

Language: Hindi
59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
*आऍं-आऍं राम इस तरह, भारत में छा जाऍं (गीत)*
*आऍं-आऍं राम इस तरह, भारत में छा जाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
दुनिया के हर क्षेत्र में व्यक्ति जब समभाव एवं सहनशीलता से सा
Raju Gajbhiye
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
Shutisha Rajput
रूठते-मनाते,
रूठते-मनाते,
Amber Srivastava
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
तू मेरी मैं तेरा, इश्क है बड़ा सुनहरा
SUNIL kumar
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
कार्तिक नितिन शर्मा
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
मन तो बावरा है
मन तो बावरा है
हिमांशु Kulshrestha
I don't care for either person like or dislikes me
I don't care for either person like or dislikes me
Ankita Patel
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
Manoj Kushwaha PS
हमने अपना भरम
हमने अपना भरम
Dr fauzia Naseem shad
गुमनाम रहने दो मुझे।
गुमनाम रहने दो मुझे।
Satish Srijan
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नींद और ख्वाब
नींद और ख्वाब
Surinder blackpen
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
पूर्वार्थ
तुम ही मेरी जाँ हो
तुम ही मेरी जाँ हो
SURYA PRAKASH SHARMA
आहत बता गयी जमीर
आहत बता गयी जमीर
भरत कुमार सोलंकी
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
विनोद सिल्ला
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
🙏😊🙏
🙏😊🙏
Neelam Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
Dr Archana Gupta
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
नूरफातिमा खातून नूरी
#व्यंग्य
#व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
"भूल गए हम"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...