Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2024 · 1 min read

सत्य

हे! तात मैंने कई बार सुना है
सत्य सत्य तुमने जो धुना है!
मेरी मति भ्रमित हो जाती
क्या रहस्य यह समझ न पाती।

तात मुदित हो अति हर्षाये
अपने जैसा शिष्य जो पाये।
ज्ञान कुंज से फूल चुनो
देववाणी का मूल सुनो।

जिनसे बनते हैं शब्द कई
वे तत्व धातु कहलाते हैं।
सत्य शब्द का मूल रूप
सुनो तुम्हें हम बतलाते है।

दो धातुओं सत और तत से
मिलकर बनता सत्य है।
धातु सत का अर्थ ‘यह’ है
धातु तत का अर्थ ‘वह’ है।

यह और वह दोनों ही सत्य हैं
मैं और तुम दोनों ही सत्य हैं।
मुझमें तुम हो तुझमें मैं हूँ
हम दोनों ईश स्वरूप है।

यही सत्य है परम शाश्वत
यही सृष्टि का रूप है।
अर्थात ‘अहंब्रह्मास्मि’ वही है
जो ‘तत्वमसि’ में कहा गया।

हे तात! तुम्हारी अनुकंपा से
यह रहस्य समझ में आ गया।

2 Likes · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आब त रावणक राज्य अछि  सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
आब त रावणक राज्य अछि सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
DrLakshman Jha Parimal
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा  है मैंने
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा है मैंने
शिव प्रताप लोधी
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,
Buddha Prakash
कलेवा
कलेवा
Satish Srijan
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
Shyam Sundar Subramanian
हमको
हमको
Divya Mishra
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ दास्य भाव के शिखर पुरूष गोस्वामी तुलसीदास
■ दास्य भाव के शिखर पुरूष गोस्वामी तुलसीदास
*Author प्रणय प्रभात*
Anxiety fucking sucks.
Anxiety fucking sucks.
पूर्वार्थ
"शिक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
प्रबुद्ध कौन?
प्रबुद्ध कौन?
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धर्म जब पैदा हुआ था
धर्म जब पैदा हुआ था
शेखर सिंह
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
जब तक लहू बहे रग- रग में
जब तक लहू बहे रग- रग में
शायर देव मेहरानियां
चुप्पी!
चुप्पी!
कविता झा ‘गीत’
ରାତ୍ରିର ବିଳାପ
ରାତ୍ରିର ବିଳାପ
Bidyadhar Mantry
जे सतावेला अपना माई-बाप के
जे सतावेला अपना माई-बाप के
Shekhar Chandra Mitra
Life is a rain
Life is a rain
Ankita Patel
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
खुशियों का बीमा (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2895.*पूर्णिका*
2895.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Stop use of Polythene-plastic
Stop use of Polythene-plastic
Tushar Jagawat
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
shabina. Naaz
Loading...