Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

सताए मुझको

सताये मुझको आज वो मुलाकात
हुई थी तुमसे पहली मुलाकात

खड़े थे तरूवरू तले बारिश में
खड़कतीं बिजली जैसी मुलाकात

डरा सा तू और डरी सी मैं
हमेशा तड़पाये ये मुलाकात

मुझे याद नहीं कब आ गये पास
हसीँ प्यार भरी सी थी मुलाकात

न भूली अब तक उस नजदीकी को
बसी स्मृति में वो खास मुलाकात

69 Likes · 237 Views
You may also like:
काश उसने तुझे चिड़ियों जैसा पाला होता।
Manisha Manjari
मीरा के घुंघरू
Shekhar Chandra Mitra
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
Buddha Prakash
✍️ये केवल संकलन है,पाठकों के लिये प्रस्तुत
'अशांत' शेखर
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
राती घाटी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
- साहित्य मेरी जान -
bharat gehlot
साजिशों की छाँव में...
मनोज कर्ण
पितृ देव
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आ अब लौट चले
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जुनून।
Taj Mohammad
कैसे कितने चेहरे बदलकर
gurudeenverma198
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
की बात
AJAY PRASAD
चोट मैं भी खायें हैं , तेरे इश्क में काफ़िर
Manoj Kumar
जिंदगी भी क्या है
shabina. Naaz
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
'सनातन ज्ञान'
Godambari Negi
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
*घर (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
आया सावन ओ साजन
Anamika Singh
किसे फर्क पड़ता है।(कविता)
sangeeta beniwal
“ मत पीटो ढोल ”
DrLakshman Jha Parimal
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
غزل - دینے والے نے ہمیں درد بھائی کم نہ...
Shivkumar Bilagrami
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
Loading...