Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2024 · 1 min read

सजि गेल अयोध्या धाम

देखु सजि गेल अयोध्याधाम यौ,
अएला दशरथ केऽ ललनमा ।
सिया संग विराजत प्रभु राम यौ,
अप्पन मिथिलाक पहुंनमा…

देखु सजि गेल अयोध्याधाम यौ…

स्वर्ण सिंहासन श्रीराम के बैसायब,
राजमुकुट सेऽ शीश सजायब।
जागल जन जनकेऽ सिमटल भाग्य यौ.
राजा दशरथ के ललनमा…

देखु सजि गेल अयोध्याधाम यौ…

आइ अवध में उत्सव भारी,
रामसंग शोभय छथि सिया सुकुमारी।
निरखैत नैना निहाल यौ,
दशरथजी के ललनमा…

देखु सजि गेल अयोध्याधाम यौ…

सजि धजि सखि सभ मंगल गाऊ,
पुष्प बिछाऊ,घर घर दिया जलाऊ।
आइ हर्षित भेल,धरती आकाश यौ,
सियाजी के सजनमा…

देखु सजि गेल अयोध्याधाम यौ…

जाधरि सांस,प्राण अछि तन में,
राम जपब हम, राम अछि मन में।
हमतऽ छोड़ब नहिं प्रभु के चरणमा ,
दशरथजी के ललनमा…

देखु सजि गेल अयोध्याधाम यौ…

मौलिक आओर स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १४ /०१ /२०२४
पौष,शुक्ल पक्ष ,तृतीया ,रविवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

2 Likes · 2 Comments · 553 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
VINOD CHAUHAN
घर एक मंदिर🌷
घर एक मंदिर🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*दशरथ के ऑंगन में देखो, नाम गूॅंजता राम है (गीत)*
*दशरथ के ऑंगन में देखो, नाम गूॅंजता राम है (गीत)*
Ravi Prakash
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
पूर्वार्थ
जिंदगी की किताब
जिंदगी की किताब
Surinder blackpen
तुम मत खुरेचना प्यार में ,पत्थरों और वृक्षों के सीने
तुम मत खुरेचना प्यार में ,पत्थरों और वृक्षों के सीने
श्याम सिंह बिष्ट
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
जगदीश शर्मा सहज
"यादों के झरोखे से"..
पंकज कुमार कर्ण
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
_सुलेखा.
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
"अमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
ज़ब ज़ब जिंदगी समंदर मे गिरती है
शेखर सिंह
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
कोरोना चालीसा
कोरोना चालीसा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
Kailash singh
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐प्रेम कौतुक-479💐
💐प्रेम कौतुक-479💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
* मिट जाएंगे फासले *
* मिट जाएंगे फासले *
surenderpal vaidya
टिमटिमाता समूह
टिमटिमाता समूह
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"समय से बड़ा जादूगर दूसरा कोई नहीं,
Tarun Singh Pawar
लड़की की जिंदगी/ कन्या भूर्ण हत्या
लड़की की जिंदगी/ कन्या भूर्ण हत्या
Raazzz Kumar (Reyansh)
2768. *पूर्णिका*
2768. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*
*"माँ कात्यायनी'*
Shashi kala vyas
कभी हुनर नहीं खिलता
कभी हुनर नहीं खिलता
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तेरी जुस्तुजू
तेरी जुस्तुजू
Shyam Sundar Subramanian
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
Sukoon
उत्तम देह
उत्तम देह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...