Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2023 · 1 min read

संस्कार का गहना

अक्सर ब्याह दी जाती है बेटियां
धन की पोटली से, जायदाद के माप से
सुरक्षित सी एक नौकरी से
सात समंदर पार भी दिखता है
चकाचौंध करता नखलिस्तान
सुविधाओ के अंबार से झुका
एक आसमान
भविष्य को मुठ्ठी मे सहेजने की चाहत में
खुद को होम कर रहा हर जवान

नेपथ्य मे चला जाता है
संस्कार का पहना गहना
स्नेह की उचित मात्रा
जिम्मेदारी उठाने का जज्बा
सामाजिक कर्तव्य निभाने का भाव
वातावरण व पर्यावरण के प्रति संवेदना
स्वहित का बढ़ता जाता है बोलबाला
परहित को जैसे भुला ही डाला

रिश्तो की उम्र हो रही छोटी
सिमटना खुद मे बन रही मजबूरी
मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाना होगा
पौध को संस्कार के जल से नहाना होगा

प्रसन्न और स्वस्थ्य समाज का
तब होगा निर्माण
जाति , धर्म, देश से परे होगा जब
इंसान का इस धरती पर वास

संदीप पांडे”शिष्य” अजमेर

Language: Hindi
3 Likes · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sandeep Pande
View all
You may also like:
"किसी के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सीमा प्रहरी
सीमा प्रहरी
लक्ष्मी सिंह
■ वक़्त किसी को नहीं छोड़ता। चाहे कोई कितना बड़ा सूरमा हो।
■ वक़्त किसी को नहीं छोड़ता। चाहे कोई कितना बड़ा सूरमा हो।
*प्रणय प्रभात*
लेखक कौन ?
लेखक कौन ?
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
एक आज़ाद परिंदा
एक आज़ाद परिंदा
Shekhar Chandra Mitra
तेरा मेरा साथ
तेरा मेरा साथ
Pratibha Pandey
*बदलता_है_समय_एहसास_और_नजरिया*
*बदलता_है_समय_एहसास_और_नजरिया*
sudhir kumar
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
कवि रमेशराज
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
तन को सुंदर ना कर मन को सुंदर कर ले 【Bhajan】
Khaimsingh Saini
*लम्हे* ( 24 of 25)
*लम्हे* ( 24 of 25)
Kshma Urmila
*पिता (दोहा गीतिका)*
*पिता (दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
"" *गीता पढ़ें, पढ़ाएं और जीवन में लाएं* ""
सुनीलानंद महंत
दोहे - झटपट
दोहे - झटपट
Mahender Singh
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
Shweta Soni
किस बात का गुमान है यारो
किस बात का गुमान है यारो
Anil Mishra Prahari
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
Atul "Krishn"
"कुण्डलिया"
surenderpal vaidya
तू
तू
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
मानवता
मानवता
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
2668.*पूर्णिका*
2668.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
तू दूरबीन से न कभी ढूँढ ख़ामियाँ
तू दूरबीन से न कभी ढूँढ ख़ामियाँ
Johnny Ahmed 'क़ैस'
बारह ज्योतिर्लिंग
बारह ज्योतिर्लिंग
सत्य कुमार प्रेमी
साल को बीतता देखना।
साल को बीतता देखना।
Brijpal Singh
Loading...