Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

संयुक्त परिवार

परिवार की परिभाषा धीरे धीरे क्यों बदल रही हैं।
क्यों महल दुमहलों की सीमाएं अब सिमट रही हैं।।
पहले परिवार में सब मिलजुलकर घर में ही रहते थे।
जिसे गर्व से हम अपना संयुक्त परिवार सबसे कहते थे।।
दादादादी,ताऊताई,चाचाचाची बच्चे यहाँ सब मिलकर रहते थे।
हर अच्छे बुरे घटनाक्रम को भी सब मिलजुलकर सहते थे।।
दादू आंगन में बिठाकर सबको अपनी जवानी के किस्से कहते थे।
और फिर दादी खांस खांस कर दादू को चिड़ाते ही रहते थे।।
मिलबैठकर रात को जब सारे के सारे गप्पें मारा करते थे।
बच्चों के सामने बड़े भी खेल खेल में आसानी से हारा करते थे।।
माँ का प्यार बाबा की डांट दादादादी के लाड़ सभी को कम पड़ते थे।
ताऊ चाचा चाची या बुआ के गिफ्ट हमेशा सबको कम पड़ते थे।।
कहे विजय बिजनौरी अब परिवार ऐसे कहीं भी नहीं मिल पाते हैं।
देखते देखते महलों के आंगन से निकल कमरों में सिमट जाते हैं।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
■ शर्म भी शर्माएगी इस बेशर्मी पर।
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
shabina. Naaz
प्रार्थना के स्वर
प्रार्थना के स्वर
Suryakant Dwivedi
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूर्वार्थ
चंद एहसासात
चंद एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
Anand Kumar
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
कवि रमेशराज
*आई गंगा स्वर्ग से, उतर हिमालय धाम (कुंडलिया)*
*आई गंगा स्वर्ग से, उतर हिमालय धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3270.*पूर्णिका*
3270.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
Paras Nath Jha
* चान्दनी में मन *
* चान्दनी में मन *
surenderpal vaidya
कहाँ जाऊँ....?
कहाँ जाऊँ....?
Kanchan Khanna
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
Vishal babu (vishu)
जनैत छी हमर लिखबा सँ
जनैत छी हमर लिखबा सँ
DrLakshman Jha Parimal
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तख्तापलट
तख्तापलट
Shekhar Chandra Mitra
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
कवि दीपक बवेजा
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
Mahima shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जुगाड़
जुगाड़
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नारी
नारी
Dr fauzia Naseem shad
शिक्षा मे भले ही पीछे हो भारत
शिक्षा मे भले ही पीछे हो भारत
शेखर सिंह
पाँव थक जाएं, हौसलों को न थकने देना
पाँव थक जाएं, हौसलों को न थकने देना
Shweta Soni
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरे सपनों का भारत
मेरे सपनों का भारत
Neelam Sharma
Loading...