Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 1 min read

शेष

धृणा थी,
अब क्षमा है,
द्वेष था,
अब प्रेम है,
युद्ध था,
अब शान्ति है,
आरोप था,
अब धन्यवाद हैं,
विचारों के इस
महासंग्राम में,
अर्जुन सा मेरा मन,
और कृष्ण सी मेरी ऊर्जा,
जीवन की गीता को,
प्रतिदिन बाँचते हैं—-
ताकि एक दिन-
जब शरीर मृत हो जाय,
तो शेष आन्नद रह जाय।

Language: Hindi
5 Likes · 2 Comments · 259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"ख्वाहिश"
Dr. Kishan tandon kranti
I met Myself!
I met Myself!
कविता झा ‘गीत’
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
हिन्दी दोहा बिषय- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कभी कभी आईना भी,
कभी कभी आईना भी,
शेखर सिंह
फिर से आयेंगे
फिर से आयेंगे
प्रेमदास वसु सुरेखा
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
Buddha Prakash
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
बढ़ना चाहते है हम भी आगे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
2668.*पूर्णिका*
2668.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" तितलियांँ"
Yogendra Chaturwedi
मासूमियत
मासूमियत
Punam Pande
बुझलहूँ आहाँ महान छी मुदा, रंगमंच पर फेसबुक मित्र छी!
बुझलहूँ आहाँ महान छी मुदा, रंगमंच पर फेसबुक मित्र छी!
DrLakshman Jha Parimal
पृष्ठों पर बांँध से
पृष्ठों पर बांँध से
Neelam Sharma
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
शोभा वरनि न जाए, अयोध्या धाम की
शोभा वरनि न जाए, अयोध्या धाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शेर अर्ज किया है
शेर अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
वर्तमान राजनीति
वर्तमान राजनीति
नवीन जोशी 'नवल'
दूर देदो पास मत दो
दूर देदो पास मत दो
Ajad Mandori
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
पूर्वार्थ
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
बंद लिफाफों में न करो कैद जिन्दगी को
बंद लिफाफों में न करो कैद जिन्दगी को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्यार की कलियुगी परिभाषा
प्यार की कलियुगी परिभाषा
Mamta Singh Devaa
अनुसंधान
अनुसंधान
AJAY AMITABH SUMAN
फल और मेवे
फल और मेवे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
Srishty Bansal
Loading...