Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2023 · 1 min read

शुभ दीपावली

शुभ दीपावली

दीपों की माला सजाएंगे,
फूलों की चादर बिछाएंगे,
राम लक्ष्मण जानकी के स्वागत में,
घरों को हम स्वर्ग बनाएंगे।

निशा के अंबर को सतरंगी करेंगे,
पटाखों की दीर्घ गर्जना करेंगे,
हर स्वास में लेंगे नाम राम का,
बजरंगबली हर दुविधा दूर करेंगे ।

मिठाइयों का पहाड़ होगा,
पकवानों का भंडार होगा,
प्रभु मेरे प्रसन्न हो जाओ,
अब तो हर समय हर्षोल्लास होगा।

बुराई का नाश हुआ है,
खुशियों का वास हुआ है,
प्रभु के आशीर्वाद से,
भक्त का हर काम हुआ है।

मां लक्ष्मी का सर पर हाथ रहे,
सरस्वती जीवा पर विराजमान रहे,
गणपति जी की जयकार हो,
हृदय में सदा राम दरबार लगे।

घर को सुंदर रंगाया है,
हजारों दीयों से आंगन जगमगाया है,
अयोध्या जाते समय राम मेरे घर भी आएंगे,
भगवान के स्वागत में दिल को सेवा में लगाया है।

शुभ दीपावली

हर्ष मालवीय
PARSS कोषाध्यक्ष,
ग्रामीण सामाजिक ऑडिटर,
M.Com शासकीय कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय हमीदिया,
बरकतुल्लाह विश्वविद्यालय भोपाल

400 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
सत्य कुमार प्रेमी
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कुलदीप बनो तुम
कुलदीप बनो तुम
Anamika Tiwari 'annpurna '
आरम्भ
आरम्भ
Neeraj Agarwal
3254.*पूर्णिका*
3254.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
कवि के उर में जब भाव भरे
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
टूटकर बिखरना हमें नहीं आता,
टूटकर बिखरना हमें नहीं आता,
Sunil Maheshwari
सिर्फ तुम्हारे खातिर
सिर्फ तुम्हारे खातिर
gurudeenverma198
नहीं देखी सूरज की गर्मी
नहीं देखी सूरज की गर्मी
Sonam Puneet Dubey
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ बच्चों के परीक्षा परिणाम आने वाले है
कुछ बच्चों के परीक्षा परिणाम आने वाले है
ओनिका सेतिया 'अनु '
"गुमनाम जिन्दगी ”
Pushpraj Anant
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*बरसात (पाँच दोहे)*
*बरसात (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
Suryakant Dwivedi
गुरु के पद पंकज की पनही
गुरु के पद पंकज की पनही
Sushil Pandey
"हँसी"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िद..
ज़िद..
हिमांशु Kulshrestha
*क्या देखते हो *
*क्या देखते हो *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लोगों के रिश्तों में अक्सर
लोगों के रिश्तों में अक्सर "मतलब" का वजन बहुत ज्यादा होता है
Jogendar singh
Chalo khud se ye wada karte hai,
Chalo khud se ye wada karte hai,
Sakshi Tripathi
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
जरासन्ध के पुत्रों ने
जरासन्ध के पुत्रों ने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
राहुल रायकवार जज़्बाती
कलियुग की संतानें
कलियुग की संतानें
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...