Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

शब्द ब्रह्म अर्पित करूं

शब्द ब्रह्म महिमा कहूं, उर धर गुरु उपदेश।
प्रेम सहित हृदय बसहु, शारद शेष गणेश।।
शब्द ब्रह्म ओंकार है, शब्द हरि का नाम।
शब्द ब्रह्म में बस रहे, ईश्वर अल्लाह राम।।
शब्द ब्रह्म गीता बसे, चारों वेद पुराण।
शब्द ब्रह्म गुरुबाणियां, बाइबल और कुरान।।
भाषा और सब बोलियां, शब्द ब्रह्म की शान।
मुख से जब भी बोलिए, शब्द ब्रह्म पहचान।।
शब्द ब्रह्म की शक्ति से, मत रहना अनजान।
शब्दों के आघात से, आहत न हों प्राण।।
सकल सृष्टि शिवमय बसहि, देखहूं नयन पसार।
सृष्टि सकल कल्याण महि, जित देखहूं त्रिपुरारि।।
शब्द ब्रह्म नहीं लिख सके, महिमा मांत अपार।
सकल विश्व आंचल बसे, पालहु सब संसार।।
विश्वनाथ माया प्रबल, सकल जगत आधार।
पालै पोसै उपजे, और करें संहार।।
जड़ चेतन जग जीव जे, रचे विधाता जान।
सबको सेवो प्रेम से, प्रभु मूरत पहचान।।

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
Dr Archana Gupta
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
****बहता मन****
****बहता मन****
Kavita Chouhan
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
DrLakshman Jha Parimal
जल संरक्षण बहुमूल्य
जल संरक्षण बहुमूल्य
Buddha Prakash
कविता की महत्ता।
कविता की महत्ता।
Rj Anand Prajapati
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चाह नहीं मुझे , बनकर मैं नेता - व्यंग्य
चाह नहीं मुझे , बनकर मैं नेता - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इतना आसान होता
इतना आसान होता
हिमांशु Kulshrestha
कहां से लाऊं शब्द वो
कहां से लाऊं शब्द वो
Seema gupta,Alwar
गायब हुआ तिरंगा
गायब हुआ तिरंगा
आर एस आघात
*खिले जब फूल दो भू पर, मधुर यह प्यार रचते हैं (मुक्तक)*
*खिले जब फूल दो भू पर, मधुर यह प्यार रचते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मन नहीं होता
मन नहीं होता
Surinder blackpen
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
कवि रमेशराज
दाम रिश्तों के
दाम रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
#एहतियातन...
#एहतियातन...
*Author प्रणय प्रभात*
सन्तानों  ने  दर्द   के , लगा   दिए    पैबंद ।
सन्तानों ने दर्द के , लगा दिए पैबंद ।
sushil sarna
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
श्री गणेश का अर्थ
श्री गणेश का अर्थ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
दर्द की धुन
दर्द की धुन
Sangeeta Beniwal
वासना और करुणा
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शब्द : एक
शब्द : एक
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
"ग्लैमर"
Dr. Kishan tandon kranti
एक बार फिर...
एक बार फिर...
Madhavi Srivastava
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
Anil chobisa
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
ग़ज़ल/नज़्म - ये हर दिन और हर रात हमारी होगी
अनिल कुमार
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...