Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)

वो बीता हुआ दौर नजर आता है(जेल से)
जरूरी नहीं सभी गुनहगार हों यहां,
फिर भी हर कोई चोर नजर आता है।
शान्त गुमशुदा खोया सा हर एक यहां,
फिर भी हर तरफ, शोर नजर आता है।
वो बीता हुआ दौर नजर आता है।।१।।
यहां हर कोई, अपनापन जरूर दिखाता है।
फिर भी अपना यहां, कौन नजर आता है।
गुनाहगार नहीं हूं, फिर भी चारों ओर अंधेरा है,
नजरें उठाऊं तो, ना मुझे भौर नजर आता है।
वो बीता हुआ दौर नजर आता है।।२।।
घर की वो यादें, वो अपनों का प्यार।
वो चांद सा चेहरा, जीवन की बहार।
बाहर से है हर कोई खुशी यहां, मगर,
अंदर से देखो तो, बौर नजर आता है।
वो बीता हुआ दौर नजर आता है।।३।।
बंद दीवारें दरवाजे, सब अजनबी से लोग,
समय उनका है उल्टा, झेल रहे वियोग।
यहां कार्य बहुत हैं, लोग करते भी हैं मगर,
फिर भी हर कोई, कामचोर नजर आता है।
वो बीता हुआ दौर नजर आता है।।४।।
कोई जैसे तैसे, दिन काटे अपने,
कोई आंखों में सजाए, सुंदर सपने।
आंसू जोर बैर किसका किस पर यहां,
कोई वन टू का फोर नजर आता है।
वो बीता हुआ दौर नजर आता है।।५।।
वो पद वो मान-सम्मान, कहां यहां,
अब दुष्यंत कुमार अपना परिचय खुद बताता है।
दिलों में जख्म, कुछ बोलते क्या नहीं,
बंदी रहकर, जिंदगी का छोर नजर आता है।
वो बीता हुआ दौर नजर आता है।।६।।

Language: Hindi
5 Likes · 282 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
🌻 *गुरु चरणों की धूल* 🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
#शीर्षक-प्यार का शक्ल
#शीर्षक-प्यार का शक्ल
Pratibha Pandey
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
छल.....
छल.....
sushil sarna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्यार के बारे में क्या?
प्यार के बारे में क्या?
Otteri Selvakumar
खुली किताब सी लगती हो
खुली किताब सी लगती हो
Jitendra Chhonkar
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Surinder blackpen
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
मैं चाहता हूँ अब
मैं चाहता हूँ अब
gurudeenverma198
kavita
kavita
Rambali Mishra
*हम विफल लोग है*
*हम विफल लोग है*
पूर्वार्थ
2632.पूर्णिका
2632.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#बाल_दिवस_से_क्या_होगा?
#बाल_दिवस_से_क्या_होगा?
*Author प्रणय प्रभात*
"एक शोर है"
Lohit Tamta
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
CA Amit Kumar
मेरे मरने के बाद
मेरे मरने के बाद
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Sanjay ' शून्य'
"पिता है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
Manisha Manjari
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक,  तूँ  है
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक, तूँ है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
दूध वाले हड़ताल करते हैं।
दूध वाले हड़ताल करते हैं।
शेखर सिंह
अपने वजूद की
अपने वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
Loading...