Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

” लोग “

अपनों के ज़ुल्म आप ही, सहते रहे हैं लोग
सैलाब -ए- अश़्क में भी, बहते रहे हैं लोग

हालात -ए- ज़ख्म कैसे हैं,वो कह नहीं सकते
दर्द दिल में रखकर भी, सहते रहे हैं लोग

रिश्वत तले फर्जी मेडिकल रिपोर्ट बनाते रहे हैं जो
ख़ुदा -ए- दोयम उन्हें भी, कहते रहे हैं लोग

हिफाज़त -ए- ज़िम्मेदारियां कंधों पर जिनके थीं
वर्दी पहन कर , चोरियां करते रहे हैं लोग

ज़िम्मेदारियां इंसाफ़ दिलाने की जिन पर थी
मुवक्किल -ए- खून जोंक बन चूसते रहे हैं लोग

आरज़ू में अपनी बीवी के तलबगार जो रहे
दीदार -ए- ग़ैर हुस्न कर आहें भरते रहे हैं लोग

प्रशासन के ज्यादातियों से हुआ हूँ रूबरू
गिला इस बात का ऐसा भी करते रहे हैं लोग

कैदियों की मज़बूरियों की चर्चा मैं क्या करूँ”चुन्नू”
दुश्वारियाँ सहकर भी, हँसते रहे हैं लोग —–

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता – मऊ (उ.प्र.)

142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी नौजवान से
किसी नौजवान से
Shekhar Chandra Mitra
भगवान कहाँ है तू?
भगवान कहाँ है तू?
Bodhisatva kastooriya
Exploring the Vast Dimensions of the Universe
Exploring the Vast Dimensions of the Universe
Shyam Sundar Subramanian
मेरे जैसे तमाम
मेरे जैसे तमाम "fools" को "अप्रैल फूल" मुबारक।
*Author प्रणय प्रभात*
अक़्सर बूढ़े शज़र को परिंदे छोड़ जाते है
अक़्सर बूढ़े शज़र को परिंदे छोड़ जाते है
'अशांत' शेखर
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
आज का बदलता माहौल
आज का बदलता माहौल
Naresh Sagar
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
💐अज्ञात के प्रति-23💐
💐अज्ञात के प्रति-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मार्शल आर्ट
मार्शल आर्ट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"एहसानों के बोझ में कुछ यूं दबी है ज़िंदगी
दुष्यन्त 'बाबा'
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
पुरुष का दर्द
पुरुष का दर्द
पूर्वार्थ
दोहा निवेदन
दोहा निवेदन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
भक्त गोरा कुम्हार
भक्त गोरा कुम्हार
Pravesh Shinde
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
Dr Archana Gupta
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
हार भी स्वीकार हो
हार भी स्वीकार हो
Dr fauzia Naseem shad
"बेड़ियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वतंत्र नारी
स्वतंत्र नारी
Manju Singh
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिस बस्ती मेंआग लगी है
जिस बस्ती मेंआग लगी है
Mahendra Narayan
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
Rj Anand Prajapati
दुल्हन जब तुमको मैं, अपनी बनाऊंगा
दुल्हन जब तुमको मैं, अपनी बनाऊंगा
gurudeenverma198
खुदा जाने
खुदा जाने
Dr.Priya Soni Khare
पहचान
पहचान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2970.*पूर्णिका*
2970.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...